भारत ने श्रीलंका को हराया

मोहाली में खेले गए दूसरे ट्वेन्टी-20 में भारत ने श्रीलंका को छह विकेटों से हरा दिया है. इस तरह भारत ने नागपुर के पहले टी-20 के हार का बदला चुकता कर लिया है.

पहला ट्वेन्टी-20 मैच भारत श्रीलंका से 29 रनों से हार गया था.

भारत ने 207 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 20वें ओवर की पहली गेंद पर ही उसे पूरा कर लिया. श्रीलंका ने निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट के नुक़सान पर 206 रन बनाया था.

क्लिक करें स्कोर कार्ड देखिए

भारत की जीत में युवराज, सहवाग और धोनी का अहम योगदान रहा. तीनों खिलाड़ियों ने सामूहिक रुप से 170 रनों का योगदान दिया.

युवी का दिन

आजका दिन युवराज के नाम रहा. अपने जन्मदिन का जश्न मनाते हुए उन्होंने पाँच छक्कों की सहायता से जीत की राह आसान कर दी.

भारतीय पारी की शुरुआत वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने की. हालाँकि गंभीर कुछ ख़ास नहीं कर सके और 18 गेदों पर 21 रन बनाकर रन आउट हो गए.

भारत का पहला विकेट जहाँ 58 के स्कोर पर गिरा था वहीं दूसरा विकेट 108 रनों के स्कोर पर सहवाग के रुप में गिरा, तबतक सहवाग एक शानदार पारी खेल चुके थे.

युवराज सिंह

युवराज ने पाँच छक्के और तीन चौके जड़े

सहवाग ने 36 गेंदों का सामना कर सात चौकों और तीन छक्कों की मदद से 64 रन का योगदान दिया. वो मलिंगा की गेंद पर कैच आउट हुए.

सहवाग के बाद धोनी और युवराज ने आतिशी बल्लेबाज़ी का प्रदर्शन किया और दोनों ने 72 गेंदों पर 80 रनों की साझेदारी की.

जब भारत ने तीसरा विकेट खोया तब तक वो मज़बूत स्थिति में पहुँच गया था. तीसरा विकेट 17वें ओवर में धोनी के रुप में 188 रन पर गिरा. चौथा विकेट सुरेश रैना के रुप में गिरा और वे रन आउट हो गए. हालाँकि उस समय तक भारत 200 रन बना चुका था.

फिर क्या था भारत ने 20वें ओवर की पहली गेंद पर श्रीलंका को छह विकेटों से हरा दिया.

युवराज ने पाँच छ्कके और तीन चौके लगाकर 25 गेंदों में ही 60 रनों का योगदान दिया. वहीं धोनी अर्धशतक बनाने से चूक गए और उन्होंने तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से टीम के स्कोर में 46 रन जोड़े.

श्रीलंका का कोई भी गेंदबाज़ कुछ ख़ास नहीं कर सका. मलिंगा और फ़र्नांडो को एक-एक विकेट मिला. श्रीलंका ने कई बार ख़राब फ़ील्डिग का भी प्रदर्शन किया.

श्रीलंका की पारी

इससे पहले श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट पर 206 का स्कोर खड़ा किया.

कुमार संगकारा ने सबसे अच्छी पारी खेली और 31 गेंदों का सामना कर आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 59 रनों का योगदान दिया. उनके आउट होने के साथ ही टीम के रन बनाने की रफ़्तार कम होती गई.

श्रीलंकाई पारी की शुरुआत सनत जयसूर्या और तिलकरत्ने दिलशान की. लेकिन पहला झटका दूसरे ओवर में केवल दस रनों के स्कोर पर ही लगा जब ईशांत शर्मा ने दिलशान को एक रन के निजी स्कोर पर आउट कर दिया.

लेकिन उसके बाद जयसूर्या ने अच्छी पारी खेली और 31 रनों का योगदान दिया.

'ऑरो' बना कमेंटेटर

संगकारा

श्रीलंका की ओर से संगकारा ने सबसे अच्छी बल्लेबाज़ी की.

लेकिन दिलशान के बाद खेलने आए कुमार संगाकारा ने स्कोर को काफ़ी ऊपर तक पहुँचाया.

वो जब तक क्रीज़ पर रहे श्रीलंका एक बड़े स्कोर की ओर बढ़ता रहा और उनके आउट होने के बाद ही टीम के रन बनाने की गति धीमी हुई.

उनके आउट होने के बाद आख़िरी चार विकेट 26 रनों के अंदर-अंदर गिरे. 141 पर चौथा विकेट गिरने के बाद 167 रन तक पहुँचते-पहुँचते श्रीलंका ने चार विकेट खो दिए. इस दौरान महेला जयवर्धने, कपुगेदरा, जयसिंघे और वीररत्ने आउट हुए.

भारत की ओर से सबसे अच्छी गंदबाज़ी युवराज सिंह ने की और उन्होंने तीन ओवर में 23 रन देकर तीन विकेट लिए. वहीं ईशांत शर्मा ने दो विकेट लिए.

इस मैच की ख़ास बात यह है कि बीच-बीच में अमिताभ बच्चने ऑरो की आवाज़ में मैच की कमेंट्री करते देखे गए.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.