वनडे सीरिज़ पर भारत का क़ब्ज़ा

  • 24 दिसंबर 2009
गंभीर
Image caption गंभीर ने कोहली के साथ भारत को जीत दिलाई

भारत और श्रीलंका के बीच कोलकाता में खेले गए चौथे वनडे मैच में भारत ने जीत के साथ ही पाँच वनडे मैचों की इस सीरिज़ पर क़ब्ज़ा कर लिया है. भारत ने ये मैच सात विकेट से जीता और 3-1 से सीरिज़ पर क़ब्ज़ा किया.

ईडेन गार्डन पर अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैच के अब तक के सबसे बड़े स्कोर का पीछा करते हुए भारत ने श्रीलंका को हराया.

श्रीलंका ने भारत के सामने जीत के लिए 316 रनों का लक्ष्य रखा था जिसे भारत ने 11 गेंद रहते पूरा कर लिया.

भारत ने 49वें ओवर की पहली गेंद पर लक्ष्य को पूरा कर क्रिमस की पूर्वसंध्या पर भारतीय खेल प्रेमियों को जीत का तोहफ़ा दिया. 150 रन बनाने के लिए गौतम गंभीर को मैन ऑफ़ द मैच घोषित किया गया लेकिन उन्होंने अपना ये पुरस्कार विराट कोहल को दे दिया जिन्होंने वनडे मैचों में अपना पहला शतक बनाया.

गंभीर-कोहली के शतक

भारत की जीत में गंभीर और कोहली के शानदार शतक रहे.जहाँ गंभीर ने 150 रनों की पारी खेली और नाबाद रहे वहीं कोहली ने 107 रनों का योगदान दिया.

भारत के पहले दो विकेट (सचिन और सहवाग) चौथे ओवर में 23 रनों के स्कोर पर गिर गए थे.सहवाग ने दस गेंदों में दस रन बनाए तो सचिन ने आठ गेदों में आठ रनों को योगदान दिया.

लेकिन तीसरे नंबर पर आए विराट कोहली ने गंभीर का बख़ूबी साथ दिया और 224 रनों की साझेदारी कर मैच को जीत के मुहाने पर ला खड़ा किया.तीसरा विकेट 40वें ओवर में 287 रनों के स्कोर पर गिरा.विराट 107 रनों पर रनदीव की गेंद पर आउट हुए.ये उनका पहला वनडे शतक था.

चौथे विकेट पर आए कार्तिक 21 गेंदों का सामना कर 19 रन जड़कर नाबाद रहे. गंभीर ने विजयी शॉट लगा और अपने 150 रन पूरे कर भारत को जीत दिलाई. श्रीलंका की गेंदबाज़ी भारतीय बल्लेबाज़ों के सामने बेबस नज़र आई.

श्रीलंकाई पारी

श्रीलंका ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में छह विकेट खोकर 315 रन बनाए.

श्रीलंका की ओर से सबसे बेहतरीन पारी सलामी बल्लेबाज थंरगा की रही, उन्होंने ने 118 रनों का योगदान दिया. उन्होंने ये रन 128 गेंदों का सामना करके 14 चौकों और दो छक्कों की मदद से बनाया.

Image caption थरंगा ने 118 रनों की पारी खेली

थरंगा ने अपना शतक 102 गेंदों का सामना करके 14 चौकों और एक छक्के की मदद से पूरा किया. अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में ये उनका सातवां शतक है.

श्रीलंका की ओर से पारी की शुरुआत तिलकरत्ने दिलशान और थंरगा ने की. लेकिन दिलशान को नौ रनों पर ही नेहरा ने पवेलियन भेज दिया.

श्रीलंका का दूसरा विकेट भी सस्ते में गिरा. दूसके विकेट के रुप में आने वाले जयसूर्या टीम के स्कोर में केवल 15 रन जोड़कर आउट हो गए. उन्हें ज़हीर खा़न की गेंद पर सचिन ने कैच आउट किया.

तीसरे विकेट की साझेदारी में थरंगा और संगकारा जम गए और पारी को काफ़ी आगे बढया. संगकारा और थरंगा ने 126 रनों की साझेदारी की. जिसमें 60 रन संकगारा के थे.

तीसरा विकेट 37वें ओवर में 198 पर संगकारा के रुप में गिरा. उनके आउट होने के बाद थरंगा भी पवेलियन लौट गए. चौथा विकेट थंरगा के रुप में 42वें ओवरे में 234 रन पर गिरा.

थरंगा के आउट होने के बाद टीम के रन बनाने की गति तो नहीं गिरी लेकिन दो और खिलाड़ी जयवर्धने और परेरा आउट हो गए. दोनों ने क्रमश: 33 और 31 रनों की पारी खेली.

अपना पहला एकदिवसीय मैच खेल रहे परेरा ने केवल 14 गेंदों पर ही 31 रन जड़े.

गेंदबाज़ों में ज़हीर और नेहरा ने दो-दो विकेट लिए. नेहरा ने जहाँ दिलशान, परेरा को आउट किया वहीं ज़हीर ने थरंगा और जयसूर्या को आउट दिया.एक विकेट हरभजन सिंह के भी हिस्से में आया.

श्रीलंका की टीम जब खेल रही थी को बिजली गुल हो जाने के कारण कुछ समय के खेल को रोकना पड़ा था.

संबंधित समाचार