सरीना के सिर ताज

सरीना विलियम्स
Image caption वर्ष 2009 में सरीना विलियम्स विश्व नंबर एक बनकर उभरी हैं

वर्ष 2009 महिला टेनिस के इतिहास में शानदार प्रदर्शन वाले साल के रूप में याद किया जाएगा, हालाँकि कई उदीयमान नौजवान खिलाड़ी आशा के अनुरूप प्रदर्शन करने में नाकाम रहीं.

जहाँ सर्बिया की येलेना यान्कोविच के लिए ये साल सबसे निराश करने वाला रहा, वहीं बेल्जियम की किम क्लाइस्टर्स के लिए ये साल ख़ुशियों से भरा रहा.

यान्कोविच ने साल की शुरुआत विश्व नंबर एक से की, लेकिन साल के अंत तक उनका ये जलवा बिखर चुका था और वो आठवें पायदान पर धकेली जा चुकी थीं.

जबकि किम क्लाइस्टर्स ने यूएस ओपन का ख़िताब अपने नाम कर 1980 के बाद पहली महिला रहीं जिन्होंने माँ बनने के बाद कोई ग्रैंड स्लैम जीता हो.

Image caption किम क्लाइस्टर्स ने एक माँ के रुप में ग्रैंड स्लैम जीता

दिनारा सफ़ीना के लिए ये साल कुल मिलाकर कभी ख़ुशी कभी ग़म वाला रहा. पहले छह महीने में उन्होंने ज़बरदस्त प्रदर्शन किया, लेकिन कोई भी ग्रैंड स्लैम अपने नाम करने में नाकाम रहीं.

ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता येलेना देमेन्तिएवा भी इस साल कोई ग्रैंड स्लैम अपने खाते में जोड़ने में नाकाम रहीं.

लेकिन ये साल सरीना विलियम्स के लिए ख़ुशियों भरा रहा, जो 2009 में छाई रहीं और कुल 65 लाख डॉलर की रिकॉर्ड कमाई की.

सरीना और सफ़ीना के बीच शिखर की लड़ाई चलती रही, लेकिन साल के अंत में दिनारा सफ़ीना पिछड़कर दूसरे नंबर पर आ गईं, जबकि पहले स्थान पर सरीना विलियम्स ने क़ब्ज़ा जमा लिया.

2009 में दो बड़ी महिला खिलाडियों ने टेनिस को अलविदा कहा, उनमें दो बार यूएस ओपन का डबल्स ख़िताब जीतने वाली नताली डेंची और एशिया की महान खिलाड़ी आई सुगियामा रहीं.

साल की टॉप खिलाड़ी का लेखाजोखा पेश है:-

सरीना विलियम्स

Image caption सरीना विलियम्स ने साल का आग़ाज़ विश्व नंबर दो से किया था

सरीना विलियम्स ने साल की शुरुआत विश्व नंबर दो से की और उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई ओपन और विंबलडन का ख़िताब अपने नाम किया.

जहाँ ऑस्ट्रेलियन ओपन में उन्होंने दिनारा सफ़ीना को हराकर ख़िताब अपने नाम किया, वहीं विंबलडन में अपनी बहन वीनस विलियम्स को पछाड़कर जीत दर्ज की.

साल के अंत में उन्होंने विश्व टेनिस संघ के दोहा में खेले गए सोनी एरिक्सन ओपन टेनिस में जीत दर्ज कर विश्व नंबर एक बनकर उभरीं.

सरीना इस साल उस समय विवादों घिर गई जब यूएस ओपन के सेमी फ़ाइनल मुक़ाबले में दुर्व्यवहार के कारण उन पर जुर्माना लगा और वे मैच भी हार गईं.

लेकिन कमाई के मामले में वो दुनियाभर की महिला खिलाडियों में सबको पीछे छोड़ दिया. धन अर्जन के मामले में वो महिला टेनिस खिलाड़ियों में भी पहले स्थान पर रहीं.

दिनारा सफ़ीना

Image caption दिनारा सफ़ीना इस कुछ समय के लिए विश्व नंबर एक की कुर्सी पर भी जा पहुँची थी

सफ़ीना ने साल का आग़ाज़ अपनी बढ़ती साख और बड़ी अपेक्षाओं के साथ किया.

वर्ष 2009 में सफ़ीना ने अपना प्रवेश विश्व नंबर तीन के तौर पर किया और अपने बेहतर प्रदर्शनों की बदौलत एक पायदान चढ़कर दूसरे स्थान पर पहुँच गईं.

उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई ओपन में शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन क़िस्मत की देवी ने उनका साथ नहीं दिया और वो सरीना विलियम्स से बुरी तरह हार गईं.

2009 में एक समय ऐसा भी आया जब वो अपने करियर के शिखर पर पहली बार पहुँची यानी विश्व नंबर-एक की कुर्सी पर विराजमान हो गईं. उन्होंन रोम और मैड्रिड का ख़िताब जीता.

इस वर्ष वो फ़्रेंच ओपन के फ़ाइनल में गई लेकिन स्वेतलाना कुज्नेत्सोवा से मात खा गईं. इसी तरह विंबलडन के सेमी फा़इनलम में वो सरीना विलियम्स से हार गईं, लेकिन वो नंबर एक के पायदान पर उस समय भी विराजमान थीं.

लेकिन सफ़ीना ने यूएस ओपन में काफ़ी ख़राब प्रदर्शन किया और तीसरे ही राउंड में पेट्रा कैविटो से मात खा गईं. उनके पास ये मौक़ा था कि वो साल के अंत में विश्व नंबर एक की खिलाड़ी बनी रहें, लेकिन चोट के कारण विश्व टेनिस संघ के दोहा में खेले गए सोनी एरिक्सन ओपन टेनिस से बाहर रहना पड़ा, इस तरह उनसे नंबर एक का ताज तो छिन गया लेकिन जिस तरह उन्होंने सालभर खेल का प्रदर्शन किया है उससे आशा की जा सकती है कि 2010 उनके लिए और ख़ुशियों भरा होगा.

स्वेतलाना कुज्नेत्सोवा

Image caption स्वेतलाना कुज्नेत्सोवा ने फ़्रेंच ओपन के फ़ाइनल में दिनारा सफ़ीना को हराया

कुज्नेत्सोवा के लिए ये साल बड़ी ऊँचाइयाँ छूने वाला रहा. उन्होंने फ़्रेंच ओपन जीतकर अपने करियर की बड़ी कामयाबी हासिल कीं. उन्होंने फ़्रेंच ओपन के फ़ाइनल मुक़ाबले में दिनारा सफ़ीना को धूल चटाया.

हालाँकि उनका प्रदर्शन ग्रैंड स्लैम के अन्य मुक़ाबलों में बहुत अच्छा नहीं रहा, लेकिन वो विश्व रैंकिंग में पाँच के अंदर अपने को रखने में कामयाब रहीं और साल के आख़िर में विश्व नंबर तीन का स्थान अपने नाम कर लिया.

इस रुसी बाला ने इस साल तीन ख़िताब अपने नाम किया. जबकि साल 2008 में उन्होंने एक भी ख़िताब नहीं जीता था. ये साल उनके लिए इसलिए अहम रहा कि उनके खेल में बड़ा सुधार देखा गया.

कैरोलाइन वोज़नियाकी

Image caption वोज़नियाकी ने इस साल आठ पायदान ऊपर चढ़कर चौथा स्थान प्रप्ता किया है.

19 वर्षिया वोज़नियाकी के लिए ये साल ख़ुशियों से भरा है. उन्होंने पूरे साल बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया.

वोज़नियाकी ने इस साल आठ पायदान ऊपर चढ़कर चौथा स्थान प्रप्ता किया है.

इस साल उन्होंने तीन ख़िताब अपने नाम किया. लेकिन यूएस ओपन में क़िस्मत उनके साथ नहीं रहीं और उन्हें उप-विजेता से संतुष्ट होना पड़ा और वो यूएस ओपन के फ़ाइनल मुक़ाबले में किम क्लाइस्टर्स से हार गईं.

लेकिन ग्रैंड स्लैम में उप विजेता रहने की वजह से उन्हें विश्व टेनिस संघ के दोहा में खेले गए सोनी एरिक्सन ओपन टेनिस की हिस्सा बनीं, लेकिन सेमी फ़ाइनल में सरीना विलियम्स से हार गईं.

येलेना देमेन्तिएवा

Image caption देमेन्तिएवा ने 2009 में प्रवेश ओलंपिक स्वर्ण पदक के साथ किया था

देमेन्तिएवा ने 2009 में प्रवेश ओलंपिक स्वर्ण पदक के साथ किया, ऐसे में उम्मीदों के बोझ तले उन्होंने नए साल की शुरुआत की.

शुरुआत के साथ ही उन्होंने सिडनी और ऑकलैंड में जीत दर्ज की, लेकिन ऑस्ट्रेलियाई ओपन के सेमी फ़ाइनल में सरीना विलियम्स के हाथों उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

जबकि फ़्रेंच ओपन में वो तीसरे दौर तक ही पहुँच सकीं. लेकिन यूएस ओपन से उनका बाहर होना काफ़ी बुरा रहा. वो विश्व रैंकिंग की 73वें स्थान वाली मेलानी ओडीन से हार गईं. देमेन्तिएवा इस साल 14 सेमी फ़ाइनल का हिस्सा बनीं.

वीनस विलियम्स

Image caption इस साल वो कोई भी ग्रैंड स्लैम जीतने में नाकाम रहीं

वीनस विलियम्स के लिए ये साल बहुत अच्छा नहीं रहा है और वो 2009 में कोई भी ग्रैंड स्लैम अपने नाम करने में नाकाम रहीं.

लेकिन डब्लस में वो तीन ख़िताब (फ़्रेंच ओपन) को छोड़कर अपने नाम करने में कामयाब रहीं. वो विंबलडन के फ़ाइनल में जाने में कामयाब रहीं लेकिन अपनी बहन सरीना विलियम्स से हार गईं.

विश्व टेनिस संघ के दोहा में खेले गए सोनी एरिक्सन ओपन टेनिस में भी वीनस अपनी छोटी बहन से हार गईं.

विक्टोरिया अज़ारेन्का

अज़ारेन्का के लिए ये एक लड़खड़ाता हुआ साल साबित हुआ. ब्रिसबेन में वो अपना पहला एकल ख़िताब जीतने में कामयाब रहीं.

उन्होंने मेरियन बार्टोली को हराकर ये ख़िताब अपने नाम किया. वो ओस्ट्रेलियाई ओपन के चौथे दौर में भी पहुँचने में सफल रहीं.

अज़ारेन्का ने दूसरा ख़िताब फ़्लोरिडा में टायर वन प्रीमियर में जीता. वो फ़्रेंच ओपन के क्वार्टर फ़ाइनल में दिनारा सफ़ीना से हारी वहीं विंबलडन के क्वार्टर फ़ाइनल में उन्हें सरीना विलियम्स ने हराया.

यूएस ओपन के तीसरे दौर में वो हार गईं, जिसे जीतने की उन्हें बहुत उम्मीद थीं.

येलेना यान्कोविच

Image caption येलेना यान्कोविच के लिए ये वर्ष सबसे नाकाम साल रहा

येलेना योन्कोविच ने साल में प्रवेश विश्व नंबर एक खिलाड़ी के रूप में किया, लेकिन वो किसी भी ग्रैंड स्लैम के फ़ाइनल में पहुँचने में नाकाम रहीं और इस तरह वो अपना नंबर वन का ताज गँवा बैठी और आठवें स्थान पर गिर पड़ी.

इस साल उन्होंने दो एकल मुक़ाबले का ख़िताब जीता. इसमें किसी को संदेह नहीं है कि वो इस साल उन्हें टेनिस कोर्ट पर काफ़ी नुक़सान हुआ.

चर्चा में

इस साल की सबसे बड़ी ख़बर यूएस ओपन में न्यूयॉर्क से आई जहाँ किम क्लाइस्टर्स ने यूएस ओपन का ख़िताब अपने नाम किया.

उन्होंने यूएस ओपन के महिला वर्ग का ख़िताबी मुक़ाबला डेनमार्क की कैरोलाइन वोज़नियाकी को सीधे सेटों में हरा कर प्राप्त किया.

1980 के बाद वो पहली महिला हैं जिन्होंने माँ बनने के बाद कोई ग्रैंड स्लैम जीता हो. 1980 में इवोने गुलागंगा कॉवली ने विंबलडन का ख़िताब जीता था.

संबंधित समाचार