हॉकी का विवाद सुलझा

भारतीय हॉकी खिलाड़ी
Image caption भारतीय हॉकी खिलाड़ियों ने पैसे के मसले पर एकजुटता दिखाई है

भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी से आश्वासन पाने के बाद भारतीय हॉकी खिलाड़ियों ने हड़ताल ख़त्म करने का फ़ैसला किया है.

खिलाड़ी गुरुवार सुबह से अभ्यास शुरू करेंगे.

सुरेश कलमाड़ी ने कहा है कि खिलाड़ियों को एक करोड़ रुपए तुरंत ही दिए जा रहे हैं और उनकी बाक़ी माँगें भी जल्दी ही मानी जाएँगी.

कलमाड़ी ने कहा, "खिलाड़ियों ने जो भी माँगें रखी हैं उनमें से ज़्यादातर वाजिब हैं जो तुरंत ही मानी जा सकती हैं. खिलाड़ियों की ग्रेडिंग का जो मसला है उस पर भी काम किया जाएगा."

भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष ने कहा, "खिलाड़ियों ने अच्छी मंशा और हॉकी के भविष्य के लिए ये मसला उठाया है इसलिए आगे चलकर भी किसी को भी निशाना नहीं बनाया जाएगा."

कलमाड़ी ने हॉकी टीम के लिए धन देने का वायदा करने वाले निजी क्षेत्र के संस्थानों, विभिन्न राज्य सरकारों और फ़िल्म जगत से जुड़े लोगों का धन्यवाद दिया.

सभी संबद्ध पक्ष जिन्होंने पैसा देने का वायदा किया वे ये धन दें ये सुनिश्चित करने की ज़िम्मेदारी पूर्व हॉकी खिलाड़ी धनराज पिल्लै को दी गई है.

कलमाड़ी ने बताया कि जो भी धन आ रहा है उसे मिलाकर एक कोष बनाया जाएगा और खिलाड़ियों के विकास के लिए उस धन का इस्तेमाल होगा.

ये धन सही ढंग से ख़र्च हो ये सुनिश्चित करने के लिए एक समिति का गठन होगा. उस समिति में भारतीय ओलंपिक संघ के कुछ सदस्य होंगे, आगे गठित होने वाले हॉकी इंडिया के अध्यक्ष होंगे और पूर्व खिलाड़ी ज़फ़र इक़बाल, अजित पाल सिंह, एमपी गणेश और धनराज पिल्लै भी उस समिति के सदस्य होंगे.

वैसे इस धन से सिर्फ़ मौजूदा ही नहीं बल्कि परेशानी झेल रहे पूर्व खिलाड़ियों की भी मदद की कोशिश की जाएगी.

कलमाड़ी ने कहा कि ऐसे समय में जबकि भारत में राष्ट्रमंडल खेल आयोजित होने वाले हैं हॉकी की ये स्थिति अस्वीकार्य है क्योंकि भारत को हॉकी से पहचाना जाता है.

उनका कहना था कि हर संकट से कुछ अच्छा ही निकलकर आता है और इस संकट से हॉकी का भला ही होगा.

कलमाड़ी ने कहा कि फ़िल्म जगत से जुड़े अमिताभ बच्चन, शाहरुख़ ख़ान और सलमा आग़ा ने भी समर्थन का विश्वास जताया था तो अब वे सुभाष घई से भी समर्थन की अपील करके हॉकी खिलाड़ियों के लिए एक कार्यक्रम आयोजित करवाने की कोशिश करेंगे.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है