'आईपीएल से सरकार का लेना-देना नहीं'

  • 21 जनवरी 2010
एसएम कृष्णा
Image caption एसएम कृष्णा ने आरोपों को ठुकरा दिया

भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में पाकिस्तानी खिलाड़ियों को न चुनने के मुद्दे पर पाकिस्तान के आरोपों को ठुकरा दिया है.

नई दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार को सरकारी कार्यक्रमों और निजी प्रतियोगिताओं में अंतर करना चाहिए.

पिछले दिनों आईपीएल के तीसरे संस्करण की बोली में कोई भी पाकिस्तानी खिलाड़ी नहीं बिक पाया था. इस पर पाकिस्तान सरकार ने कड़ी आपत्ति जताई थी.

कई पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने भी इस पर खेद व्यक्त किया था और कहा था कि सरकार के स्तर पर ऐसा किया था.

इन आरोपों पर विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने कहा, "सरकार का न तो आईपीएल से, न खिलाड़ियों के चयन से और न ही उनके अन्य कई क़दमों के कोई लेना-देना नहीं है."

भूमिका

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार को ये समझना चाहिए कि कौन सी चीज़े सरकार से जुड़ी हैं और किन चीजों में सरकार की भूमिका नहीं है.

पत्रकारों ने विदेश मंत्री एसएम कृष्णा से पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के उस बयान पर प्रतिक्रिया मांगी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि जिस तरह पाकिस्तानी खिलाड़ियों का अपमान हुआ है, उससे यही पता चलता है कि भारत शांति प्रक्रिया को लेकर गंभीर नहीं है.

आईपीएल में किसी भी पाकिस्तान खिलाड़ी के न बिकने के बाद पाकिस्तान ने एक संसदीय प्रतिनिधिमंडल भारत न भेजने का फ़ैसला किया था.

पाकिस्तान की टीम इस समय ट्वेन्टी-20 की विश्व चैम्पियन है. लेकिन हाल ही में जब आईपीएल-3 के लिए पाकिस्तानी खिलाड़ियों की बोली लगी, तो किसी भी टीम ने उनमें रुचि नहीं दिखाई.

इन खिलाड़ियों में शाहिद अफ़रीदी और सोहैल तनवीर भी शामिल थे, जिन्होंने पहले आईपीएल में हिस्सा लिया था.

संबंधित समाचार