पाबंदी के बाद शाहिद अफ़रीदी ने माफ़ी माँगी

शाहिद अफ़रीदी
Image caption शाहिद अफ़रीदी का कहना है कि गेंद से छेड़छाड़ अचानक हो गई

पाकिस्तान के खिलाड़ी शाहिद अफ़रीदी ने गेंद से छेड़छाड़ के लिए माफ़ी माँगी है और कहा है कि ऐसी ग़लती फिर कभी नहीं होगी.

अफ़रीदी ने मीडिया से बातचीत में कहा,''मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ. मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था.ये अचानक हो गया और मैं अपनी ग़लती के लिए माफ़ी माँगता हूँ.''

अफ़रीदी का कहना था,''ये बड़ा नज़दीकी मुक़ाबला था और पाकिस्तान ने कोई मैच नहीं जीता था. हम मैच जीतना चाहते थे और मैं तेज़ गेंदबाज़ों की मदद करना चाहता था. मैंने ये अचानक किया. मुझ पर प्रतिबंध लग गया है और मैंने इससे सबक सीखा है. मैं सुनिश्चित करूँगा कि ये फिर न हो.''

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान के क्रिकेटर शाहिद अफ़रीदी पर गेंद से छेड़छाड़ के आरोप में दो ट्वेन्टी-20 मैचों के लिए प्रतिबंध लगाया गया है.

प्रतिबंध

पर्थ में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ पाँचवें एक दिवसीय मैच के दौरान अफ़रीदी पर गेंद से छेड़छाड़ का आरोप लगा था.

मैच के बाद अंपायर अशोक डी सिल्वा और पॉल रिफ़ेल ने मैच रेफ़री रंजन मदुगले से इस बारे में शिकायत की.

मैच रेफ़री रंजन मदुगले ने सुनवाई के बाद शाहिद अफ़रीदी पर दो ट्वेन्टी-20 मैचों के लिए पाबंदी लगा दी थी.

इस मैच में अफ़रीदी कप्तानी कर रहे थे क्योंकि मोहम्मद यूसुफ़ फ़िट नहीं थे. मैच के दौरान गेंद से छेड़छाड़ करते वे कैमरे में पकड़े गए.

वर्ष 2005 में फ़ैसलाबाद में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच के दौरान अफ़रीदी ने अपने जूते से पिच को नुक़सान पहुँचाने की कोशिश की थी. उस समय भी उन पर प्रतिबंध लगाया गया था.

पर्थ एक दिवसीय मैच में पाकिस्तान ऑस्ट्रेलिया के हाथों दो विकेट से पराजित हो गया और इस तरह पाँच एक दिवसीय मैचों की सिरीज़ ऑस्ट्रेलिया ने 5-0 से जीत ली.

संबंधित समाचार