आईपीएल भारत में ही होगा: ललित मोदी

ललित मोदी
Image caption आईपीएल सीज़न तीन भारत में आयोजित हो रहा है

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के कमिश्नर ललित मोदी ने कहा है कि सुरक्षा चिंता के बावजूद आईपीएल टूर्नामेंट यहां से हटाया नहीं जाएगा.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों का कहना है कि जब तक उनके ज़रिए उठाई गई समस्याओं का समाधान नहीं होता वे आईपीएल में शामिल होने की पुष्टि नहीं कर सकते.

ललित मोदी ने बीबीसी से बातचीत में कहा है, "हम लोग यह टूर्नामेंट भारत में ही करेंगे. हमें इस समय इसे कहीं और स्थानांतरित करने का कोई कारण नज़र नहीं आता."

उन्होंने कहा, "मीडिया हर उस छोटे बड़े गुट की बात को उछाल रहा है जिसका कहना है कि सुरक्षा एक समस्या है."

मोदी के आश्वासन के बावजूद ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट खिलाड़ी आईपीएल से सुरक्षा संबंधित एक सूचि पेश करने का इरादा रखते हैं.

ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट एसोसिएशन के मुख्य अधिकारी पॉल मार्श के मुताबिक़ ब्रितानी सुरक्षा विशेषज्ञ रेग डिकेसन ने अपनी स्वतंत्र रिपोर्ट में आईपीएल में सुरक्षा को लेकर 'गंभीर' चिंता जताई है.

ख़तरा

उन्होंने कहा, "पहले तो ये बात रेखांकित करने की ज़रूरत है कि खिलाड़ी इस साल के आईपीएल में खेलना चाहते हैं "

लेकिन साथ ही उनका कहना था कि सुरक्षा पर जारी रिपोर्ट में ब्रितानी विशेषज्ञ ने मौजूदा सुरक्षा पर चिंता जताई है. इन गंभीर ख़तरों में आईपीएल को सीधा निशाना बनाए जाने का कथित ख़तरा ख़ास तौर से शामिल है.

पिछले बुधवार को एशिया टाइम्स ऑनलाइन ने अलक़ायदा के गुट 313 ब्रिगेड के हवाले से ख़बर प्रकाशित की थी कि भारत में होने वाले आईपीएल टूर्नामेंट, हॉकी वर्ल्ड कप और राष्ट्रमंडल खेलों को निशाना बनाने की चेतावनी दी गई है.

इसके बाद शिवसेना की ओर से ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ियों के विरुद्ध चेतावनी सामने आई.

बात गारंटी की

मोदी ने मुंबई से बीबीसी को बताया कि टूर्नामेंट को सुरक्षित बनाने की हर संभव कोशिश की जा रही है हालांकि उन्होंने यह भी माना, "दुनिया में कोई भी किसी टूर्नामेंट में किसी खिलाड़ी की सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकता."

उन्होंने कहा, "हम लोग सिर्फ़ इतना कर सकते हैं कि बेहतरीन सुरक्षा का इंतज़ाम करें. सुरक्षा हमारे लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण है. हम लोग केंद्र और राज्य सरकार से बेहतर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बातचीत कर रहे हैं."

Image caption आईपीएल के इस सत्र में 10 टीमें भाग ले रही है

"सुरक्षा पर बात जारी है और हर दिन उसमें बेहतरी लाई जा रही है और हम लोग उस पर नज़र रखे हुए हैं."

उन्होंने कहा, "अंत में हमें अपनी सुरक्षा योजना पर अमल करना है और हम इस पर किस प्रकार अमल कर पाते हैं यह अत्यंत महत्वपूर्ण है."

बहरहाल मोदी ने कहा कि बाहर के एक दो खिलाड़ियों के न आने से टूर्नामेंट पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा.

उन्होंने कहा, "इस बारे में हम लोगों को कोई परेशानी नहीं है क्योंकि हमारा बाज़ार भारत है. यह टू्र्नामेंट अत्यंत सफल रहा है, हमारी बड़ी साख है और दुनिया के 200 बेहतरीन खिलाड़ी इसमें शामिल हैं. यह पूरी तरह से विदेशी खिलाड़ियों पर निर्भर नहीं है हालांकि वे इसका भाग ज़रूर हैं."

अगले हफ़्ते से इस टूर्नामेंट की आठों टीमें प्रशिक्षण शुरू कर देंगी.

पिछली बार सुरक्षा कारणों से यह टूर्नामेंट दक्षिण अफ़्रीका में कराया गया था.

संबंधित समाचार