आईपीएल:दो नई टीमें बाकी आठ पर भारी

  • 21 मार्च 2010
ललित मोदी
Image caption दो टीमों की कीमत मौजूदा आठों टीमों की कीमत से ज़्यादा.

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के चौथे सीज़न यानी वर्ष 2011 से शुरु होने सत्र के लिए दो नई टीमों की नीलामी हो गई है.

पाँच दावेदारों में से सबसे बड़ी बोली सहारा एडवेंचर स्पोर्ट्स ने लगाई और 1702 करोड़ रूपए में पुणे की टीम को ख़रीद लिया.

सहारा ने पुणे, अहमदाबाद और नागपुर इन तीनों शहरों के लिए एक ही बोली लगाई लेकिन बाद में पुणे को पहली पसंद बताते हुए चुन लिया.

दूसरी सबसे बड़ी बोली रॉन्देवु स्पोर्ट्स या कोच्चि कंसोर्टियम ने लगाई. उसने लगभग 1533 करोड़ रूपए में कोच्चि की टीम को ख़रीद लिया.

रॉन्देवु ने सिर्फ़ कोच्चि के लिए ही बोली लगाई थी.

नई टीमों पर मालिकाना हक़ दस वर्षों के लिए है.

पाँच दावेदारों में सहारा और रॉन्देवु के अलावा अदानी समूह, वीसी डिजिटल और अमन वोरा शामिल थे.

Image caption पिछली बार सभी आठ टीमें 2800 करोड़ रूपए में बिकी थी.

नीलामी के बाद आईपीएल चेयरमैन ललित मोदी ने कहा कि लोग मंदी की बात कर रहे हैं लेकिन आईपीएल में किसी तरह की मंदी नहीं है.

अगर पैसों के लिहाज़ से देखा जाए तो दो नई टीमें पुरानी आठ पर भारी पड़ी.

जहां आईपीएल की मौजूदा आठ टीमें पहली बार नीलामी में कुल 2800 करोड़ रूपए में बिकी थीं, वहीं इस बार सिर्फ़ दो टीमें 3200 करोड़ रूपए से ज़्यादा में बिकी है.

सहारा समूह के प्रतिनिधि अभिजीत सरकार ने अपनी कंपनी के नई टीम का मालिक बनने पर कहा, "हम भारत में खेल को सबेस ज़्यादा प्रोत्साहन देने वाले हैं और देते रहेंगे. जब वाणिज्यिक तौर पर खेल से जुड़ने की बारी आई तो आईपीएल से बेहतर विकल्प क्या हो सकता था."

पुणे की टीम का चयन करने का कारण बताते हुए उन्होंने कहा, "हमने टीम चुनने में वहां मौजूद बुनियादी ढाँचे को ध्यान में रखा और इस लिहाज से पुणें हमारी पहली पसंद बनी."

संबंधित समाचार