आईपीएल कार्यालय पर 'छापे'

ललित मोदी
Image caption ललित मोदी आईपीएल की सफलता के बाद क्रिकेट प्रशासकों में ख़ासे प्रभावशाली माने जाते हैं

विवादों के घेरे में आई इंडियन प्रीमियर लीग और उसके कमिश्नर ललित मोदी के दफ़्तर पर आयकर विभाग ने मंगलवार शाम को छापे मारे हैं जो बुधवार तड़के तक जारी रहे हैं. ललित मोदी से पूछताछ भी की गई है.

बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद के अनुसार ललित मोदी ने छापे मारे जाने की बात को नकारते हुए कहा है कि अधिकारियों ने आईपीएल में नीलामी के दौरान फंडिंग यानी पैसे के स्रोत के बारे में उनसे दस्तावेज़ माँगे और पूछताछ की है.

इस दौरान आईपीएल के वित्तीय मामलों के बारे में पूछताछ की गई है. मुंबई के वरली इलाक़े में बीसीसीआई का कार्यालय है और इसी परिसर में आईपीएल का भी ऑफिस है.

पिछले कुछ दिनों में आईपीएल की गतिविधियां विवाद में रही हैं. जहां कोच्चि टीम को लेकर काफ़ी विवाद हुआ है वहीं आईपीएल की बढ़ती आय को लेकर भी प्रश्न खड़े हुए हैं.

पर्यवेक्षक मानते हैं कि आयकर विभाग के ये छापे हाल में कोच्चि टीम को लेकर हुए विवाद से जुड़े हैं. आईपीएल की दो नई टीमों में से एक के लिए कोच्चि ने भी दावा किया था.

कोच्चि के लिए यह दावा जिस कंपनी ने पेश किया था उसमें विदेश राज्य मंत्री शशि थरुर की एक मित्र भी शामिल हैं और इसी मुद्दे पर विवाद पैदा हुआ था.

ललित मोदी का कहना था कि कोच्चि के मालिकों के बारे में कुछ प्रश्न हैं. उधर कोच्चि टीम के मालिकों का कहना है कि मोदी कोच्चि टीम की जगह अहमदाबाद टीम को मान्यता देना चाहते थे.

इसके बाद मोदी ने ट्विटर पर कोच्चि टीम पर आरोप लगाए और मामला विवादों में घिरता चला गया.

मोदी पर ये भी आरोप हैं कि आईपीएल की कुछ टीमों में उनके परिवार के पैसे भी लगे हैं हालाँकि इस बारे में स्थिति स्पष्ट नहीं है.

संबंधित समाचार