मनोहर और पवार की होगी मुलाक़ात

शशांक मनोहर
Image caption अपुष्ट ख़बरों के अनुसार मोदी को आईपीएल के बाद पद से हटाया जा सकता है.

इंडियन प्रीमियर लीग और उसके कमिश्नर ललित मोदी को लेकर उपजा विवाद तूल पकड़ता जा रहा है.

केंद्र सरकार के बाद अब भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड ने भी इस पर चर्चा शुरु की है.

बीसीसीआई के अध्यक्ष शशांक मनोहर इसी मुद्दे पर बोर्ड के पूर्व प्रमुख और आईसीसी के निर्वाचित अध्यक्ष शरद पवार से बातचीत करने दिल्ली पहुंचे हैं.

बीसीसीआई पहले ही कह चुका है कि उन्होंने आईपीएल से जुड़े विवाद को गंभीरता से लिया है और इस मुद्दे पर आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल में विस्तार से बात होनी है.

कृषि मंत्री पवार से मोदी के बारे में पूछे जाने पर उनका कहना था कि वो आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल के सदस्य नहीं है इसलिए वो कुछ नही कह सकते.

समाचार माध्यमों में क़यास लगाए जा रहे हैं कि ललित मोदी को पद से हटाया जा सकता है लेकिन इस बारे में अभी कोई पुष्ट ख़बर नहीं है.

ऐसा माना जाता है कि शरद पवार ललित मोदी के समर्थक है. इसे देखते हुए मनोहर और पवार की बैठक और महत्वपूर्ण हो जाती है.

आईपीएल के गवर्निंग काउंसिल की बैठक 26 अप्रैल को तय है जबकि इससे पहले क्रिकेट बोर्ड ने 24 अप्रैल को बोर्ड की कार्यकारी समिति की बैठक बुलाई है.

उल्लेखनीय है कि जब से थरुर और मोदी के बीच कोच्चि टीम को लेकर विवाद शुरु हुआ है उसके बाद बीसीसीआई के अधिकारियों के धर्मशाला में अनौपचारिक बैठक हुई थी लेकिन उसमें मोदी को आमंत्रित नहीं किया गया था.

विवाद का इतिहास

आईपीएल में पिछले दिनों दो नई टीमें शामिल हुई हैं. कोच्चि और पुणे. कोच्चि की टीम को लेकर मोदी और विदेश राज्य मंत्री शशि थरुर के बीच वाकयुद्ध शुरु हुआ था.

कोच्चि की टीम में थरुर की मित्र सुनंदा पुष्कर की हिस्सेदारी को लेकर विवाद हुआ और मामले ने इतना ज़ोर पकड़ा कि थरुर को इस्तीफ़ा देना पड़ा.

थरुर के इस्तीफ़े के बाद केंद्र सरकार ने साफ कर दिया कि अब आईपीएल की पूरी जांच होगी. इसी दौरान आईपीएल के बिजनेस और ललित मोदी के तौर तरीकों को लेकर कई तरह के आरोप लगने शुरु हुए.

आयकर विभाग ने मोदी के कार्यालय पर छापे मारे हैं और वित्त मंत्री ने साफ किया कि पूरे मामले की जांच की जाएगी.

संबंधित समाचार