चेन्नई और डेक्कन होंगे आमने-सामने

महेंद्र सिंह धोनी
Image caption धोनी की बेहतरीन पारी की मदद से चेन्नई की टीम ने किंग्स एलेवन पंजाब को हराया था

नवी मुंबई में आज चेन्नई सुपरकिंग्स और डेक्कन चार्जर्स के बीच होने वाले आईपीएल सेमीफ़ाइनल में बल्लेबाज़ों का बोलबाला रहने की संभावना है.

चेन्नई की टीम वैसे भी टूर्नामेंट की सबसे मज़बूत बल्लेबाज़ी वाली टीमों में से एक मानी जाती है और उसका सामना डेक्कन के मज़बूत मध्यक्रम से होगा.

अगर सिर्फ़ मैच के जीत-हार के आँकड़ों की बात करें तो पलड़ा डेक्कन चार्जर्स के पक्ष में झुका है.

दोनों ही टीमें लीग स्तर पर 14 में से सात-सात मैच जीतकर सेमीफ़ाइनल में पहुँची हैं मगर इस रास्ते में डेक्कन की टीम ने पिछले पाँचों मैच जीते हैं.

उधर चेन्नई की टीम ने पिछले पाँच में से तीन मैच जीते हैं और दो में उसे हार का सामना करना पड़ा है.

दोनों ही टीमें इस बार जब दो बार भिड़ीं तो दोनों ही में डेक्कन चार्जर्स को जीत मिली. यानी टूर्नामेंट के दूसरे हिस्से में डेक्कन चार्जर्स की टीम काफ़ी अच्छे फ़ॉर्म में आ गई है.

धोनी का फ़ॉर्म

वहीं चेन्नई की टीम ने अंतिम लीग मैच में जिस तरह किंग्स एलेवन पंजाब को हराया और उसमें भी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतिम दो ओवरों में धुआँधार बल्लेबाज़ी की उससे चेन्नई की टीम भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है.

डेक्कन की ओर से रोहित शर्मा और ऐंड्रयू साइमंड्स और टी सुमन ने मध्यक्रम में टीम को मज़बूती दी है.

Image caption साइमंड्स के अच्छे फ़ॉर्म ने डेक्कन को आगे बढ़ने में मदद की है

वहीं चेन्नई की ओर से भी सुरेश रैना अच्छे फ़ॉर्म में हैं किंग्स एलेवन पंजाब के विरुद्ध अंतिम लीग मैच में उन्हें बद्रीनाथ से भी अच्छा साथ मिला था.

चेन्नई की मुश्किल ये है कि उसकी ओर से मैथ्यू हेडन के बल्ले ने उस तरह आग नहीं उगली है जैसी पिछले सीज़न में थी.

डेक्कन की ओर से जहाँ प्रज्ञान ओझा अभी 20 विकेट के साथ पर्पल कैप पाने वालों की होड़ में सबसे ऊपर हैं तो चेन्नई की ओर से भी आर अश्विन और डग बोलिंजर ने गेंदबाज़ी में अच्छा प्रदर्शन किया है.

चिंतित नहीं गिलक्रिस्ट

डेक्कन के कप्तान ऐडम गिलक्रिस्ट बहुत अच्छे फ़ॉर्म में नहीं हैं मगर वो इसे लेकर कुछ ख़ास चिंतित भी नहीं हैं.

उन्होंने मैच से पहसे संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि वो इसे लेकर बहुत बेचैन नहीं हैं क्योंकि उनकी प्रमुख ज़िम्मेदारी टीम को नेतृत्त्व देकर उसे टूर्नामेंट जीतने की राह पर बढ़ाना है.

गिलक्रिस्ट मानते हैं कि चेन्नई टूर्नामेंट की काफ़ी मज़बूत टीम रही है और भले ही डेक्कन की टीम लीग स्तर पर दोनों मैच जीत गई हो मगर सेमीफ़ाइनल एक नया मैच है.

वैसे पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा का कहना है कि पहले सेमीफ़ाइनल में जिस तरह मुंबई के विरुद्ध बंगलौर की टीम की ओर से केविन पीटरसन की गेंद पिच पर घूम रही थी उसे देखते हुए आज चेन्नई की टीम मुरलीधरन के साथ उतर सकती है.

इसके अलावा धोनी के फ़ॉर्म को देखते हुए आकाश चोपड़ा चेन्नई की टीम का हाथ ऊपर बता रहे हैं.

संबंधित समाचार