इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया भिड़ेंगे फ़ाइनल में

  • 15 मई 2010
हसी
Image caption हसी की धुँआधार बल्लेबाज़ी ने बाज़ी पलट दी

पाकिस्तान की स्थिति 17 ओवरों के बाद ऐसी दिख रही थी कि उसका टी-20 विश्वकप के फ़ाइनल में पहुँचना तय दिख रहा था. ऑस्ट्रेलिया के खेमे में उदासी पसर गई थी.

लेकिन आख़िरी के तीन ओवरों में माइकल हसी ने खेल को पलटकर रख दिया और ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान को तीन विकेट से हराकर फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया.

हसी ने 24 गेंदों में छह छक्कों और तीन चौकों की मदद से 60 नाबाद रन बनाए. उनका स्ट्राइट रेट रहा 250.

इसके बाद वेस्टइंडीज़ में रविवार को फ़ाइनल में मुक़ाबला इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होगा.

इंग्लैंड ने श्रीलंका को हराकर पहले ही फ़ाइनल में अपनी जगह बना ली थी.

शानदार पारी

पाकिस्तान ने मज़बूत शुरुआत की और पूरे 20 ओवरों में शानदार खेलते हुए ऑस्ट्रेलिया के सामने 191 रनों का पहाड़ सा लक्ष्य रख दिया.

कामरान अकमल, सलमान बट्ट और उमर अकमल ने ही मिलकर 138 रन जोड़े.

पहले विकेट के रूप में जब कामरान अकमल का विकेट गिरा तो दसवाँ ओवर चल रहा था और टीम का स्कोर था 82 रन. उन्होंने 50 रन बनाए.

हालांकि सलमान बट्ट के रूप में दूसरा विकेट गिरा तो स्कोर 89 रन ही था.

उमर अकमल ने 56 रनों की नाबाद पारी खेलते हुए टीम को ऐसी मज़बूती दे दी कि जीत नज़दीक नज़र आने लगी. पाकिस्तान ने अपनी पारी छह विकेट गँवाकर 191 रन पर ख़त्म की.

और जब ऑस्ट्रेलिया ने पारी शुरु की तो भी ऐसा ही लगा. उसका पहला विकेट एक रन पर गिरा, दूसरा 26 रन पर.

इसके बाद थोड़े-थो़डे अंतराल से ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी पेवेलियन लौटते रहे.

17 ओवर के बाद ऑस्ट्रेलिया का स्कोर छह विकेट गँवाने के बाद 144 रन था. उस समय उसे 18 गेंदों में 48 और रनों की ज़रुरत थी.

इसी समय माइकल हसी ने खेल को पलटना शुरु किया. एक और ओवर बीतने के बाद 12 गेंदों पर 34 रन चाहिए थे.

19 वें ओवर में ऑस्ट्रेलिया ने 16 रन जुटाए लेकिन लक्ष्य अभी भी आसान नहीं था. छह गेंदों में 18 रन.

बीसवें ओवर में स्ट्राइक जॉनसन के पास था. उसने एक रन चुराया और माइक स्ट्राइकर एंड पर आ गए.

फिर दो लगातार छक्के, एक चौके और फिर एक छक्के ने ऑस्ट्रेलिया को फ़ाइनल में पहुँचा दिया.

संबंधित समाचार