'मैच फ़िक्सिंग' पर संसदीय जाँच

पाकिस्तान की क्रिकेट टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान टीम के कुछ खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ लगे मैच फ़िक्सिंग के आरोपों की जाँच एक संसदीय समिति करेगी.

ग़ौरतलब है कि हाल में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की एक बैठक का वीडियो फ़ुटेज सार्वजनिक हुआ था जिसमें मैच फ़िक्सिंग के बारे में चिंता व्यक्त की गई थी.

पीसीबी की वसीम बारी समिति की सिफ़ारिशें मोहम्मद यूसुफ़ और यूनुस ख़ान के झगड़ों और टीम पर दुष्प्रभाव के कारण राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने पर प्रतिबंध.शाहिद अफ़रीदी की (गेंद से छेड़छाड़) हरकत के कारण छह महीने प्रोबेशन, तीस लाख रुपए जुर्माना.कामरान अकमल को चेतावनी और छह महीने प्रोबेशन. उन्हें तीस लाख रुपए का जुर्माना भरना होगा.उमर अकमल को चेतावनी और छह महीने प्रोबेशन. उन्हें बीस लाख रुपए का जुर्मान भरना होगा.राणा नवीद और शोएब मलिक को बीस लाख रुपए का जुर्माना भरना होगा. एक साल राष्ट्रीय टीम की ओर से खेलने पर प्रतिबंध.सभी सिफ़ारिशें पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने स्वीकार कर ली हैं

कुछ ही हफ़्ते पहले पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इसी मुद्दे से जुड़े एक ऐतिहासिक फ़ैसले में टीम के सात वरिष्ठ खिलाडि़यों के खेलने पर प्रतिबंध लगाया था, चेतावनी दी थी और भारी जुर्माना भी लगाया था.

बोर्ड ने यह क़दम एक जाँच समिति की रिपोर्ट के आधार पर लिया था.

'अकमल पर संदेह'

इस जाँच में प्रमुख खिलाड़ियों और अधिकारियों को संसदीय समिति के सामने तलब किया गया है.

पाकिस्तान की क्रिकेट टीम के ख़िलाफ़ हाल के वर्षों में कई ऐसे आरोप लगे हैं. पिछले साल टीम पर आरोप लगा था कि दक्षिण अफ़्रीका में टीम ने जानबूझकर अपनी क्षमता के कम प्रदर्शन किया.

जो ताज़ा वीडियो सार्वजनिक हुआ है उसमें पाकिस्तान के कोचिज़ ने विकेटकीपर कामरान अकमल के दूसरे पाक-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट में सि़डनी में प्रदर्शन पर चिंता व्यक्त की है.

अकमल ने उस मैच में कई ग़लतियाँ की थी जिनमें चार कैच ड्रॉप करना और रन आउट मिस करना शामिल थे.

पाकिस्तानी अधिकारियों को मैच फ़िक्सिंग के आरोपों पर चिंता है इस मुद्दे की पड़ताल करना चाहते हैं.

हाल में पीसीबी ने जिन खिला़ड़ियों के खिलाफ़ कार्रवाई की थी, वे हैं - मोहम्मद यूसुफ़, यूनिस ख़ान, शोएब मलिक, राणा नवीद-उल-हसन, कामरान अकमल, उमर अकमल और शाहिद अफ़रीदी.

संबंधित समाचार