अर्जेंटीना, दक्षिण कोरिया जीते, तीसरा मैच ड्रा रहा

अमरीका के गोलकीपर हार्वड
Image caption अमरीका के गोलकीपर हार्वड को मैन ऑफ़ द मैच चुना गया

विश्व कप का दूसरा दिन और तीन मैच. परिणाम मिले-जुले रहे तो कई बेहतरीन प्रदर्शन देखने को मिले.

अर्जेंटीना ने नाइजीरिया को 1-0 से हराया तो वहीं दक्षिण कोरिया ने ग्रीस को 2-0 से शिकस्त दी जबकि इंग्लैंड और अमरीका के बीच खेला गया मैच ड्रा रहा.

दक्षिण कोरिया और ग्रीस की टीम जब आमने-सामने आईं, तो शायद किसी को इसका अंदाज़ा नहीं था कि मैच इतना एकतरफ़ा होगा. लेकिन दक्षिण कोरिया की टीम ग्रीस पर हावी रही और खेल के हर क्षेत्र में उन्हें पछाड़ा.

दक्षिण कोरिया की टीम वर्ष 2002 के विश्व कप के सेमी फ़ाइनल तक पहुँची थी, तो ग्रीस की टीम यूरो 2004 की चैम्पियन थी. इसलिए कयास ये लगाए जा रहे थे कि मुक़ाबला टक्कर का होगा. लेकिन हुआ इसका उल्टा.

मैच के सातवें मिनट में ली जुंग सू ने गोल करके ग्रीस को बैक फ़ुट पर ला दिया. पूरे मैदान पर सिर्फ़ लाल जर्सी वाली कोरिया की टीम दौड़ते-भागते दिख रही थी. उनकी चुस्ती-फ़ुर्ती के आगे ग्रीस की टीम फिसड्डी साबित हुई.

मैच के दूसरे हाफ़ में कप्तान पार्क जी सुंग को एक बेहतरीन मौक़ा मिला.

जब रेफ़री ने मैच ख़त्म होने की सीटी बजाई तो स्कोर था दक्षिण कोरिया 2 और ग्रीस शून्य. इस विश्व कप में जीत हासिल करने वाली पहली टीम बनी दक्षिण कोरिया.

अर्जेंटीना-नाइजीरिया

लेकिन दुनियाभर की निगाह अर्जेंटीना और नाइजीरिया के बीच मैच पर थी. ऐसा नहीं था कि दोनों टीमों के बीच कड़ा मुक़ाबला होना था. लेकिन लोगों को तो इंतज़ार था माराडोना की टीम का, मेसी के शानदार खेल का.

तो लोगों को अर्जेंटीना की टीम ने निराश नहीं किया. एक शानदार जीत. अर्जेंटीना की टीम भले ही 1-0 से जीती, लेकिन मैदान पर उसके खिलाड़ियों का प्रदर्शन मन मोहने वाला था.

अर्जेंटीना को गोल करने का मौक़ा मिला खेल के छठे मिनट में, जब ग्रैब्रिएल हाइंज ने शानदार हेडर से गेंद गोल पोस्ट में डाल दी.

मेसी ने गोल करने के कई मौक़े मिस किए, लेकिन उन्होंने कलात्मक फ़ुटबॉल का जो नमूना पेश किया, वो अभी शुरुआत मानी जा सकती है. टच लाइन पर मारोडोना का उछलना कूदना और मैदान पर मेसी, तावेज़ और हिगुएन की तिकड़ी का करिश्माई खेल, जोहानेसबर्ग के एलिस पार्क स्टेडियम में बड़ी संख्या में जुटे लोगों को और क्या चाहिए था.

मेसी के पाँव का जादू ख़ूब चला, उन्होंने न सिर्फ़ दूसरों के लिए गोल के मौक़े बनाए बल्कि ख़ुद भी गोल करने के क़रीब पहुँचे लेकिन गोल करने में नाकाम रहे.

अर्जेंटीना के प्रदर्शन की अभी तो शुरुआत है. देखिए अंजाम क्या होता है.

इंग्लैंड चूका

अर्जेंटीना के मैच के बाद लोगों का ध्यान गया. इंग्लैंड की टीम पर, जिसे अमरीका से भि़ड़ना था.

Image caption इंग्लैंड ने गोल करने के कई मौक़े गवाँ दिए

एक अच्छे मैच की उम्मीद में लोग जगह-जगह टीवी सेट से चिपके नज़र आए तो कई जगह मैच देखने की ख़ास व्यवस्था की गई थी.

लेकिन गोलकीपर रॉबर्ट ग्रीन की भयंकर भूल का परिणाम इंग्लैंड को भुगतना पड़ा. पूरे मैच में अच्छा प्रदर्शन करने वाली इंग्लैंड की टीम को इस एक ग़लती और कई मौक़ा चूक जाने के कारण ड्रॉ से ही संतोष करना पड़ा.

इंग्लैंड की टीम ने अमरीका के ख़िलाफ़ शानदार शुरुआत की, जब चौथे मिनट में ही कप्तान स्टीवन जेरार्ड ने हेस्की के ख़ूबसूरत पास पर शानदार गोल करके इंग्लैंड समर्थकों को तोहफ़ा दिया.

इसके बाद इंग्लैंड को गोल करने के कई मौक़े मिले, लेकिन टीम उसका फ़ायदा नहीं उठा सकी. अमरीका ने एक गोल से पिछड़ने के बाद भी दबाव को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया.

अमरीका को इसका फ़ायदा भी मिला, जब चालीसवें मिनट में इंग्लैंड के गोलकीपर रॉबर्ट ग्रीन ने भयंकर भूल की.

अमरीका के क्लिंट डेम्पसे ने शानदार गोल करके स्कोर बराबर कर दिया. दूसरे हाफ़ में गोल करने की इंग्लैंड की जी-तोड़ कोशिश गोल क्षेत्र में आकर नाकाम हो रही थी. एमिली हेस्की और शॉन राइट फिलिप्स को मौक़े मिले, लेकिन हाथ आई विफलता.

संबंधित समाचार