अलजीरिया ने इंग्लैंड को बांधा

इंग्लैड - अलजीरिया मैच के दौरान रूनी

इंग्लैंड के लिए भी विश्व कप में राह आसान नहीं दिखती. अल्जीरिया के ख़िलाफ़ मैच में फ़ेबियो कपेलो की टीम एक गोल करने में नाकाम रही और इंग्लैंड के पास अब दो मैचों में सिर्फ़ दो अंक हैं.

इंग्लैंड के टॉप खिलाड़ियों ने गोल करने में जी-जान लगा दिया लेकिन अल्जीरिया ने उनको गोल नहीं करने दिया. मैच के नतीजे के बाद अल्जीरिया के कैंप में ख़ुशी की लहर दौड़ गई.

उन्होंने विश्व कप में एक अंक जो हासिल कर लिया और इस ग्रुप की सभी चार टीमें दूसरे दौर में जाने की दावेदार हैं. अल्जीरिया की टीम अपने डिफ़ेंस में शानदार थी.

इंग्लैंड के वेन रूनी हों, कप्तान जिरार्ड हों, हेस्की हों या फिर लैम्पार्ड- मूव तो उन्होंने कई बनाए, लेकिन गोल मारने में नाकाम रहे. दूसरी ओर अल्जीरिया ने अच्छा खेल दिखाया और डिफ़ेंस के साथ-साथ कई बार इंग्लैंड के गोल पर आक्रमण भी किए.

अमरीका और स्लोवेनिया: रोमांचक मैच

अमरीका और स्लोवेनिया के बीच मैच अपेक्षा के उलट काफ़ी रोमांचक रहा. रोमांच का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि एक समय अमरीका की टीम 2-0 से पीछे थी, लेकिन उसने न सिर्फ़ वापसी की, बल्कि टीम एक बार तो जीत के दरवाज़े तक पहुँच गई.

एक समय ऐसा लग रहा था कि स्लोवेनिया की टीम आसानी से दूसरे दौर में पहुँच जाएगी. 13वें मिनट में उसे अमरीका पर बढ़त मिली. वाल्टर बिरसा ने गोल करके स्कोर 1-0 कर दिया.

और हाफ़ टाइम से पहले ज़्लाटन ल्यूबिजानकिच ने गोल करके अपनी टीम को 2-0 से बढ़त दिला दी. हाफ़ टाइम के बाद अमरीकी कोच ने टीम में कुछ बदलाव किए. जल्द ही इसका नतीजा निकला, जब लैंडन डोनावोन ने 48वें मिनट में अपनी टीम की ओर से पहला स्कोर किया.

मैच रोमांचक हो गया. स्लोवेनिया पर दबाव बढ़ गया था और अमरीका को इस फ़ायदा भी मिला.

82वें मिनट में अमरीका के कोच बॉब ब्रैडली के बेटे माइकल ब्रैडली ने गोल करके स्कोर बराबर कर दिया. अमरीका को जीत हासिल करने का एक सुनहरा मौक़ा मिला.

लेकिन उस समय अमरीका के खिलाड़ी हक्के-बक्के रह गए, जबकि एक फ़्री किक पर किया गया गोल नामंज़ूर कर दिया गया.

Image caption सर्बिया ने जर्मनी को पराजित कर सब को हैरान कर दिया

मैच के बाद भी इस नामंज़ूर गोल को बहस जारी है. लेकिन मैच आख़िरकार ड्रॉ समाप्त हुआ. अब स्लोवेनिया चार अंक हो गए हैं. जबकि अमरीका के दो अंक हैं.

जर्मनी और सर्बिया: बड़ा उलटफेर

दिन का सबसे बड़े उलटफेर वाला मैच रहा जर्मनी और सर्बिया के बीच का. जर्मनी ने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ अपने विश्व कप अभियान की शुरुआत जिस शानदार अंदाज़ में की थी, उसकी आज हवा निकल गई.

सर्बिया ने प्रतियोगिता में एक बड़ा उलटफेर किया. स्पेन स्विट्ज़रलैंड के हाथों हारा, तो फ़्रांस मैक्सिको के हाथों और अब जर्मनी सर्बिया के हाथों पराजित हो गया.

जर्मनी का दुर्भाग्य 37वें मिनट में शुरू हुआ, जब टीम के स्टार खिलाड़ी मिरोस्लाव क्लोज़ा को दूसरी बार पीला कार्ड दिखाया गया और फिर रेड कार्ड दिखाकर उन्हें मैदान से बाहर कर दिया गया. स्पेन के रेफ़री के फ़ैसले की आलोचना भी हो रही है.

10 खिलाड़ियों से खेल रही जर्मनी की टीम अभी इस सदमे से उबर पाती कि एक मिनट बाद ही एक बड़ी मुसीबत आ गई.

38वें मिनट में सर्बिया के मिलान जोवानोविच ने गोल दागकर जर्मनी की मुश्किल बढ़ा दी.

अपना पहला मैच घाना से हार चुकी सर्बिया के लिए यह गोल वरदान था. इसलिए जिस जरह जोवानोविच ने इस गोल का जश्न मनाया, उसने सर्बियाई समर्थकों को मुग्ध कर दिया. दूसरे हाफ़ में जर्मनी ने स्कोर बराबर करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी और उन्हें कई मौक़े भी मिले. खेल के 59 वें मिनट में जर्मनी को गोल करने का सुनहरा मौक़ा मिला, जब नेमान्जा विदिच ने हाथ से गेंद रोकने की कोशिश की और जर्मनी को पेनल्टी मिला.

लेकिन ऐसा लगा रहा था कि ये जर्मनी का दिन नहीं था. पोडोलस्की ने गोल करने का सुनहरा मौक़ा गँवा दिया. जर्मनी की टीम ये मैच 1-0 से हार गई और इस ग्रुप में जर्मनी, घाना और सर्बिया के तीन-तीन अंक हो गए हैं और दूसरे दौर में जाने का मुक़ाबला और कड़ा हो गया है.

संबंधित समाचार