फ़्रांसीसी फ़ुटबॉल टीम में संकट

फ़्रांस की टीम
Image caption टीम का अब तक का प्रदर्शन निराशाजनक

कोच रेमंड डोमेनेच को अपशब्द कहने के कारण फ़्रांसीसी टीम से निकोलस एनेल्का को निकाले जाने के बाद टीम में संकट बढ़ गया है. एनेल्का को निकाले जाने से नाराज़ खिलाड़ियों ने रविवार को ट्रेनिंग करने से इनकार कर दिया.

बाद में टीम के कोच रेमंड डोमेनेच ने खिलाड़ियों का एक बयान पढ़कर सुनाया. इस बयान में खिलाड़ियों ने कहा है- फ़्रांसीसी फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन ने कभी भी खिलाड़ियों का हित नहीं सोचा. एनेल्का मामले पर लिए गए निर्णय के प्रति अपना विरोध जताने के लिए सभी खिलाड़ियों ने ट्रेनिंग न करने का फ़ैसला किया है.

ताज़ा विवाद के बाद फ़्रांसीसी फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन के महानिदेशक जॉ लुईस वेलेन्टिन ने इस्तीफ़ा दे दिया है. उन्होंने कहा है कि इन घटनाक्रमों से वे काफ़ी क्षुब्ध हैं.

हताश और परेशान वेलेन्टिन ने कहा, "ये बहुत बड़ा स्कैंडल हैं. फ़्रांसीसी लोगों के लिए, फ़ेडरेशन के लिए और टीम के लिए भी. टीम ने ट्रेनिंग से इनकार कर दिया. अब मैं इस पद पर बने नहीं रहना चाहता. मैं इस्तीफ़ा दे रहा हूँ."

विवाद

रविवार को कप्तान पैट्रिस एवरा और फ़िटनेस कोच रॉबर्ट ड्यूवर्न के बीच भी विवाद हो गया. दोनों के बीच कहासुनी हो गई और कोच डोमेनेच को आकर बीच-बचाव करना पड़ा.

लेकिन रिपोर्ट ये भी है कि टीम के कई खिलाड़ी कप्तान पैट्रिस एवरा के उस बयान से ख़ुश नहीं हैं, जिसमें एवरा ने कहा था कि टीम में एक गद्दार है जिसने डोमेनेच और एनेल्का के बीच कहासुनी की बात लीक की. एवरा ने यहाँ तक कह दिया कि इस गद्दार को टीम से हटा देना चाहिए.

दूसरी ओर रेमंड डोमेनेच ने भी एनेल्का विवाद में अपना पक्ष रखते हुए बयान जारी किया है और कहा है कि एनेल्का चाहते तो टीम का हिस्सा बने रह सकते थे. लेकिन उन्होंने माफ़ी मांगने से इनकार कर दिया.

उन्होंने फ़्रांसीसी फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन के एनेल्का को वापस भेजने के फ़ैसले को सही ठहराया और कहा कि एनेल्का को यह सब कहने का अधिकार नहीं है.

लेकिन इंग्लिश प्रीमियर लीग की टीम में एनेल्का के साथी खिलाड़ी और इंग्लैंड की मौजूदा टीम के हिस्सा जॉन टेरी ने कहा है कि एनेल्का को वापस भेजने का फ़ैसला ग़लत है. उन्होंने कहा कि एनेल्का काफ़ी शांत स्वभाव के खिलाड़ी हैं.

विश्व कप में फ़्रांस की स्थिति काफ़ी ख़राब है. फ़्रांस और उरुग्वे के बीच मैच ड्रॉ रहा था और मैक्सिको के हाथों फ़्रांस की टीम हार गई थी. अब फ़्रांस का आख़िरी मैच मेज़बान दक्षिण अफ़्रीका के साथ है. लेकिन समीकरण फ़्रांस के ख़िलाफ़ जा रहे हैं.

अगर फ़्रांस की टीम दक्षिण अफ़्रीका को हरा देती है लेकिन उरुग्वे और मैक्सिको का मैच ड्रॉ हो जाता है, तो भी फ़्रांस बाहर हो जाएगा. फ़्रांस को दूसरे दौर में पहुँचने के लिए बड़े अंतर से जीतना होगा बल्कि उरुग्वे और मैक्सिको के मैच के नतीजे का इंतज़ार करना होगा.

और इन सबके बीच फ़्रांसीसी टीम का विवाद....कहीं पूर्व विश्व चैम्पियन समय से पहले ही विश्व कप से विदा न हो जाए.

संबंधित समाचार