पुर्तगाल, स्पेन और चिली जीते

  • 22 जून 2010
डेविड विला
Image caption डेविड विया ने स्पेन की ओर से शानदार दो गोल दाग़े.

पहले मैच में स्विट्ज़रलैंड से हार जाने वाली स्पेन की टीम ने विश्व कप में अपनी उम्मीदें ज़िंदा रखी हैं. जोहानेसबर्ग के एलिस पार्क स्टेडियम में हुए एक मैच में स्पेन ने होंडूरास को 2-0 से मात दे दी है.

स्पेन के लिए इस मैच में बहुत कुछ दाँव पर था, लेकिन उसने अपने प्रशंसकों को निराश नहीं किया. हालाँकि ये भी बात सच है कि स्पेन के खिलाड़ियों को गोल करने के कई सुनहरे मौक़े मिले, जिन पर वे गोल नहीं कर पाए.

स्पेन की ओर से डेविड विया ने दोनों हाफ़ में गोल किए. स्पेन को पहले हाफ़ के 17वें मिनट में यह अवसर मिला.

डेविड विया के इस गोल की बदौलत स्पेनिश कैंप ने राहत की साँस ली. दूसरे हाफ़ के 51वें मिनट में स्पेन की ओर से एक बार फिर विया ने गोल करके अपनी टीम को 2-0 से जीत दिला दी. लेकिन स्पेन को अपने आख़िरी मैच में चिली से पार पाना होगा, जो अपने दोनों मैच जीत चुकी है.

टॉप पर चिली

पोर्ट एलिज़ाबेथ में हुए एक मैच में चिली ने स्विट्ज़रलैंड को 1-0 से हराकर अपने ग्रुप में शीर्ष स्थान हासिल कर लिया है. स्पेन की मज़बूत टीम को हराने वाली स्विट्ज़रलैंड की टीम इस मैच में कुछ ख़ास नहीं कर पाई.

चिली ने संयम से खेलते हुए मैच में जीत हासिल की. उनकी जीत इस मायने में काफ़ी अहम है कि स्पेन की टीम अपना पहला मैच हार गई थी. जबकि चिली की टीम लगातार दो मैचों में विजयी रही है.

मैच का एकमात्र गोल मार्क गोंज़ालेज़ ने मैच के 75वें मिनट में किया. लेकिन ये मैच भी खिलाड़ियों को दिखाए गए लाल और पीले कार्ड्स के कारण जाना जाएगा. इस मैच में नौ खिलाड़ियों को पीला कार्ड और एक खिलाड़ी को रेड कार्ड दिखाया गया.

पीला कार्ड पाने वाले नौ खिलाड़ियों में छह चिली के थे. जबकि स्विट्ज़रलैंड के वेलॉन बेहरामी को रेड कार्ड दिखाकर मैदान से बाहर कर दिया गया.

गोल की बारिश

पुर्तगाल ने गोल की झड़ी लगा दी और कुल सात गोल किए.

लेकिन दिन का सबसे मज़ेदार मुक़ाबला पुर्तगाल और उत्तर कोरिया के बीच हुआ. पुर्तगाल ने दिखा दिया कि वे ऐसे ही विश्व कप में फ़ेवरिट नहीं है. क्या शानदार, मज़ेदार और कलात्मक खेल हुआ. पूछिए मत. गोल का अकाल ऐसा ख़त्म हुआ कि लगा गोल की बारिश ही होने लगी है. दूसरे दौर में पहुँचने के लिए पुर्तगाल को ये मैच बड़े अंतर से जीतना ज़रूरी थी. और पुर्तगाल ने आक्रामक फ़ुटबॉल खेलते हुए न सिर्फ़ जीत दर्ज की बल्कि 7-0 से जीत हासिल की.

कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो के लिए भी अंतरराष्ट्रीय फ़ुटबॉल मैचों में गोल का अकाल ख़त्म हुआ.

उन्होंने इस मैच में सिर्फ़ एक गोल किया लेकिन वे कई मायनों में इस मैच के किंग मेकर रहे. पुर्तगाल ने टीम वर्क में खेल दिखाया और नतीजा सामने हैं.

पुर्तगाल की ओर से पहला गोल 29वें मिनट में हुआ. पुर्तगाल के राउल मिरालेस ने टिगाओ से मिले पास पर अपने देश की ओर से गोल करने का खाता खोला. हाफ़ टाइम तक पुर्तगाल की टीम 1-0 से आगे थी.

लेकिन दूसरे हाफ़ में तो पूरा इतिहास लिखा जाना था. दूसरे हाफ़ के 53 वें मिनट में पुर्तगाल ने एक और गोल किया...

दूसरे हाफ़ में उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ गोल करने की शुरुआत की सिमाओ ने. सिमाओ ने अल्मीडा और मिरेलेस के मूव पर गोल किया. इसके बाद तो जैसे गोल की झड़ी लग गई. अल्मीडा ने 56वें, टियागो ने 60वें, लिडसन ने 81वें और रोनाल्डो ने 87वें मिनट में गोल की बहती गंगा में डुबकी लगाई.

पुर्तगाल के लिए गोल का ये छक्का भी शायद कम था. तभी तो मैच ख़त्म होने से कुछ देर पहले 89वें मिनट में एक बार फिर टियागो का जलवा दिखा.

तो पुर्तगाल ने शानदार जीत हासिल करके अगला-पिछला हिसाब बराबर किया और टीम ब्राज़ील के साथ दूसरे दौर में जाने की तगड़ी दावेदार बन गई है. अब दबाव आइवरी कोस्ट पर होगा.

संबंधित समाचार