फ्रांस और दक्षिण अफ़्रीका बाहर

  • 23 जून 2010
माराडोना
Image caption माराडोना की सेना लगातार तीसरी जीत दर्ज करत हुए दूसरे दौर में पहुंच गई है

वही हुआ, जिसकी आशंका थी. विश्व कप से टीमों के बाहर निकलने का सिलसिला शुरू हुआ और पहली गाज गिरी पूर्व चैम्पियन फ़्रांस और मेज़बान दक्षिण अफ़्रीका पर.

संकट से गुज़र रही फ़्रांस की टीम वर्ष 2006 के विश्व कप के फ़ाइनल तक पहुँची थी, लेकिन इस विश्व कप में टीम दूसरे दौर में नहीं जा सकी. और तो और टीम एक भी मैच नहीं जीत पाई.

उसे मैक्सिको और दक्षिण अफ़्रीका से मात खाना पड़ा. ग्रुप ए से अब मैक्सिको और उरुग्वे की टीमें दूसरे दौर में पहुँच गई हैं.

फ़्रांस और दक्षिण अफ़्रीका के बीच मैच में दक्षिण अफ़्रीका ने 2-1 से जीत हासिल की, लेकिन इसके बावजूद टीम दूसरे दौर में नहीं पहुँच पाई. दक्षिण अफ़्रीका पहला ऐसा मेज़बान देश बना, जो दूसरे दौर में भी नहीं पहुँच पाया.

दक्षिण अफ़्रीका ने इस मैच में शानदार शुरुआत की और फ़्रांसीसी टीम के गिरे मनोबल का फ़ायदा उठाते हुए पहले हाफ़ में ही दो गोल कर डाले. दक्षिण अफ़्रीका की ओर से पहला गोल खुमालो ने 20वें मिनट में किया.

Image caption दक्षिण कोरिया भी दूसरे दौर में पहुंच गया है

फ़्रांस के ख़िलाफ़ बढ़त लेने के बाद दक्षिण अफ़्रीका की टीम रुकी नहीं. मेज़बान देश ने अपनी गरिमा बचाने के लिए संघर्ष जारी रखा और 37वें मिनट में टीम ने मफेला की गोल की बदौलत 2-0 की बढ़त ले ली. एक बार ऐसा लगा कि दक्षिण अफ़्रीका की टीम अगले दौर में जगह भी बना सकती है.

लेकिन दूसरे हाफ़ में टीम कोई गोल नहीं कर पाई. जबकि फ़्रांस की ओर से मलूदा ने 70वें मिनट में गोल उतार दिया. लेकिन इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ा और संकट से जूझ रही फ़्रांसीसी टीम विश्व कप से बाहर हो गई. विवादों के बीच कप्तान पैट्रिस एवरा इस मैच में नहीं खेले.

मैक्सिको-उरुग्वे अगले दौर में

दूसरी ओर उसी समय रस्टेनबर्ग में मैक्सिको और उरुग्वे का मैच चल रहा था. ये मैच ड्रॉ भी होता तो दोनों टीमें क्वालीफ़ाई कर जाती. लेकिन अच्छे प्रदर्शऩ के बावजूद मैक्सिको की टीम गोल नहीं कर पाई, जबकि उरुग्वे की ओर से स्वाज़ो ने 43वें मिनट में मैच का एकमात्र गोल किया.

उरुग्वे की टीम ये मैच जीतकर अपने ग्रुप में शीर्ष पर रही, जबकि गोल अंतर के हिसाब से मैक्सिको की टीम भी उसके साथ दूसरे दौर में पहुँच गई.

इसके बाद ग्रुप बी के दो मैच एक साथ खेले गए. अर्जेंटीना का मुक़ाबला ग्रीस से था, तो उत्तर कोरिया की भिड़ंत नाइजीरिया से थी. अर्जेंटीना का तो दूसरे दौर में जाना तय था, लेकिन दूसरे स्थान के लिए बाक़ी के तीन देशों में मुक़ाबला था और साथ में जोड़-घटाव भी था.

Image caption दक्षिण अफ़्रीक़ा ने फ़्रांस को 2-1 से मात दी लेकिन इससे वह बाहर होने से नहीं बच सकी

लेकिन अर्जेंटीना ने ग्रीस को 2-0 से हराकर आसानी से दूसरे दौर में जगह बना ली, तो दक्षिण कोरिया ने नाइजीरिया से 2-2 से ड्रॉ खेलकर दूसरे दौर में अपनी जगह बना ली.

ग्रीस और अर्जेंटीना के मुक़ाबले में हाफ़ टाइम तक गोल नहीं हुआ था. हालाँकि अर्जेंटीना ने कई बार गोल करने के मौक़े गँवाए. लेकिन 77वें मिनट में डेमिचेलिस ने गोल करके अपनी टीम की ओर से खाता खोला.

1-0 से आगे होने के बाद अर्जेंटीना ने आक्रमण तेज़ किया और 89वें मिनट में उन्हें इसका फ़ायदा भी मिला. मार्टिन पलेर्मो ने गोल करके स्कोर 2-0 कर दिया और अर्जेंटीना ने लगातार तीसरी जीत हासिल की.

दूसरी ओर नाइजीरिया और दक्षिण कोरिया में ज़बरदस्त मुक़ाबला हुआ. नाइजीरिया को उम्मीद थी कि दक्षिण कोरिया को अच्छे अंतर से हराकर टीम दूसरे दौर में पहुँच सकती है. लेकिन ऐसा हो न सका.

डरबन में हुए इस मैच में नाइजीरिया के उचे ने 12वें मिनट में ही गोल करके अपनी टीम को शानदार शुरुआत दी.

लेकिन 38वें मिनट में दक्षिण कोरिया के ली जुंग सू ने गोल करके स्कोर बराबर कर दिया. दूसरे हाफ़ में मुक़ाबला और ज़ोरदार हुआ. 49वें मिनट में पार्क चु यंग ने गोल करके अपनी टीम को 2-1 से बढ़त दिला दी.

लेकिन 69वें मिनट में नाइजीरिया को मिले पेनल्टी पर याकूबू ने गोल करके स्कोर 2-2 से बराबर कर दिया. लेकिन इसके बाद नाइजीरिया की जीत की कोशिश कामयाब नहीं हो पाई. तो इस ग्रुप में अर्जेंटीना और दक्षिण कोरिया की टीमें दूसरे दौर में पहुँच गई.

अब अर्जेंटीना का मुक़ाबला मैक्सिको से और उरुग्वे का मुक़ाबला दक्षिण कोरिया से होगा.