ब्राज़ील और पुर्तगाल दूसरे दौर में

विश्व कप में स्विट्ज़रलैंड के हाथों पिट कर ख़राब शुरुआत करने वाली स्पेन की टीम ने आख़िरकार आख़िरी 16 में जगह बना ली. चिली के ख़िलाफ़ हुए एक अहम मैच में उसने 2-1 से जीत हासिल की.

स्विट्ज़रलैंड और होंडूरास का मुक़ाबला ड्रॉ रहा और दोनों टीमें प्रतियोगिता से बाहर हो गई हैं. इससे पहले ब्राज़ील और पुर्तगाल ने ड्रॉ खेलकर दूसरे दौर में जगह बनाई थी. जबकि आइवरी कोस्ट की टीम उत्तर कोरिया को 3-0 से हराने के बाद भी दूसरे दौर में नहीं पहुँची.

तो अब नॉक आउट स्टेज में ब्राज़ील का मुक़ाबला चिली से और पुर्तगाल की भिड़ंत स्पेन से होगी. यानी एक बार फिर यूरोपीय टीम आमने-सामने होंगी. इसी स्टेज में रविवार को इंग्लैंड का मुक़ाबला जर्मनी से होना है.

स्पेन की टीम ने चिली के ख़िलाफ़ मैच में बेहतरीन शुरुआत की और फ़र्नांडो टोरेस को शुरू में एक-दो अच्छे मौक़े मिले. अच्छे खेल का इनाम उन्हें 24वें मिनट में मिला.

चिली के गोलकीपर की ग़लती का फ़ायदा उठाते हुए डेविड विया ने दूर से ही ऐसा लॉबिंग शॉट लगाया कि चिली के खिलाड़ी देखते रह गए. चिली के खिलाड़ियों को भी मौक़ा मिला, लेकिन वे दुर्भाग्यशाली रहे.

मैच के 37वें मिनट में एक बार फिर डेविड विया ने अच्छा मूव बनाया और इस बार इनिएस्टा ने खिलाड़ियों के बीच से गेंद को चिली के गोल की राह दिखाई. लेकिन इस दौरान चिली के एस्ट्राडा को रेफ़री ने दूसरी बार पीला कार्ड दिखाया और फिर रेड कार्ड दिखाकर मैदान से बाहर किया. रेफ़री के इस फ़ैसले पर भी सवाल उठ रहे हैं.

दूसरे हाफ़ के 47वें मिनट में रोड्रिगो मिलर का एक शॉट स्पेनिश डिफ़ेंडर पिके से टकराकर स्पेन के गोल में चला गया. गोलकीपर कैसियस भी चकमा खा गए. लेकिन इस स्कोर के बाद स्पेनिश खिलाड़ी रक्षात्मक हो गए और 2-1 के स्कोर पर ही उन्होंने जीत हासिल की.

दूसरी ओर स्विट्ज़रलैंड और होंडूरास का मैच बराबरी पर छूटा. इस तरह स्पेन और चिली की टीमें दूसरे दौर के लिए क्वालीफ़ाई कर गईं.

ब्राज़ील-पुर्तगाल मैच ड्रॉ

इससे पहले ग्रुप जी के दो मैच हुए. ब्राज़ील और पुर्तगाल का मैच गोलरहित ड्रॉ हुआ जबकि आइवरी कोस्ट ने उत्तर कोरिया को 3-0 से हरा दिया. लेकिन आइवरी कोस्ट की टीम के पास इतने अंक नहीं थे कि वो दूसरे दौर के लिए क्वालीफ़ाई होती.

नेल्सप्रेट में आइवरी कोस्ट के सामने बड़ी चुनौती थी. अगर पुर्तगाल की टीम ब्राज़ील के हाथों हार भी जाती तो आइवरी कोस्ट को आठ या उससे ज़्यादा गोल अंतर से जीत हासिल करने की स्थिति में दूसरे दौर में जगह मिलती.

आइवरी कोस्ट ने 14वें मिनट में ही उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ गोल करके 1-0 की बढ़त ले ली. आइवरी कोस्ट की ओर से याया टौरे ने ये गोल किया. शुरू से ही आइवरी कोस्ट ने उत्तर कोरिया के गोल पर आक्रमण जारी रखा.

छह मिनट बाद ही आइवरी कोस्ट ने एक और गोल करके अपने समर्थकों को कुछ उम्मीद की किरण दिखाई. 20वें मिनट में रोमारिक ने गोल किया. लगा आइवरी कोस्ट का लक्ष्य दूर नहीं. लेकिन दूसरे हाफ़ में उत्तर कोरिया ने आइवरी कोस्ट को उतनी छूट नहीं दी. आइवरी कोस्ट की टीम भी दूसरे हाफ़ में उतना अच्छा नहीं खेल पाई और नतीजा ये हुआ कि इस हाफ़ में उसने सिर्फ़ एक ही गोल किया. 82वें मिनट में कालू ने गोल करके टीम को 3-0 से जीत तो दिला दी लेकिन ये जीत दूसरे दौर में पहुँचने के लिए काफ़ी नहीं थी.

मैच ख़त्म होने के बाद आइवरी कोस्ट की टीम ने स्टेडियम में मौजूद दर्शकों के प्रति अपना आभार जताया और इस विश्व कप को अलविदा कहा.

दूसरी ओर डरबन में ब्राज़ील और पुर्तगाल का मैच निराशाजनक रहा. निराशाजनक इसलिए क्योंकि दोनों ही टीमों ने अपने प्रदर्शन से निराश किया. ब्राज़ील की टीम इतने संयम से खेलने लगी कि लगा ही नहीं कि उसे इस मैच में जीतना भी है.

दूसरी ओर पुर्तगाल ने रक्षात्मक खेल पर इतना ध्यान दिया कि उन्होंने ब्राज़ील की गोल पर कम ही आक्रमण किए. आधे से ज़्यादा पुर्तगाली खिलाड़ी ब्राज़ीलियाई फ़ॉरवर्ड लाइन से चिपके रहे. इस कारण ब्राज़ील को भी गोल करने में दिक्कत हुई. एक खिलाड़ी आगे बढ़ा नहीं कि पाँच पुर्तगाली उसे घेर लेते थे.

लेकिन इस ड्रॉ के बावजूद भी ब्राज़ील की टीम दूसरे दौर के लिए क्वालीफ़ाई कर गई.

संबंधित समाचार