क्वींस बेटन भारत पहुंची

  • 25 जून 2010
क्वींस बेटन भारत पहुंची
Image caption राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी को लेकर चिंता बरक़रार

दिल्ली में होने वाले 19वें राष्ट्रमंडल खेलों की उलटी गिनती शुरू हो गई है. भारत में इसकी शुरुआत भारत-पाकिस्तान के अटारी वाघा सीमा से हुई जब राष्ट्रमंडल खेलों की क्वींस बेटन रिले शुक्रवार सुबह भारत पहुंची.

राष्ट्रमंडल खेलों में क्वींस बेटन रिले की वही हैसियत है जो ओलंपिक खेलों में मशाल को हासिल है.

वाघा सीमा पर पाकिस्तान ओलिंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल सैयद आरिफ़ हसन ने राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति (सीडब्ल्यूसी) के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी को भारतीय समयानुसार सुबह साढ़े नौ बजे बेटन सौंपी.

'बेहतर होंगे रिश्ते'

इस मौक़े पर हसन ने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों से भारत और पाकिस्तान के आपसी रिश्तों में तल्ख़ी से मुक्ति मिलेगी.

कलमाड़ी ने भी भारत-पाकिस्तान के बीच बेहतर रिश्ते की वकालत करते हुए कहा, ‘‘यह भारत और पाकिस्तान के लिए बहुत बड़ा दिन है. पाकिस्तान की कोशिशों से भारत को इन खेलों की मेज़बानी मिली है. यह दर्शाता है कि अगर हम खेलों से जुड़ा नज़रिया अपनाने पर ध्यान केंद्रित करें, तो पाकिस्तान के साथ हमारे रिश्तों में सुधार हो सकता है.’’

राष्ट्रमंडल खेलों की सारी तैयारियां शायद समय पर पूरी ना हो सकें इस आशंका को दूर करने की कोशिश करते हुए कलमाड़ी ने कहा, ‘‘मैं फ़ेनेल और हूपर का उनके सहयोग के लिए शुक्रगुजार हूं. खेल के लिए ज़रूरी मूलभूत ढांचे के निर्माण समेत हर काम सही गति से चल रहा है.’’

इस मौक़े पर राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष माइकल फ़ेनेल और मुख्य कार्यकारी अधिकारी माइक हूपर भी मौजूद थे.

माइकल फ़ेनेल ने बेटन को समारोह में शामिल आयोजक राज्य दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के हवाले किया.

शीला दीक्षित ने ओलिंपिक के कांस्य पदक विजेता बॉक्सर विजेन्दर सिंह को बेटन सौंपी. उसके बाद चार बार की महिला विश्व चैंपियन भारतीय मुक्केबाज़ एससी मैरीकॉम ने बेटन पकड़ी.

लंदन से हुई शुरुआत

पिछले साल 29 अक्टूबर को लंदन स्थित बकिंघम पैलेस में इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ ने भारत की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल की मौजूदगी में बेटन को रवाना किया था.

ये बेटन 70 देशों से गुज़रते हुए कुल 1.70 लाख किलोमीटर का सफ़र तय करके भारत पहुंची है.

राष्ट्रमंडल खेलों में अब सिर्फ़ 100 दिन बाक़ी रह गए हैं और ये बेटन भारत के 28 राज्यों और सात केंद्र शासित प्रदेशों से होते हुए 30 सितंबर को दिल्ली पहुंचेगी, जहां तीन से 14 अक्टूबर तक राष्ट्रमंडल खेल होने हैं.

इस मौक़े पर सीमा के दोनों ओर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे और बेटन के स्वागत के लिए वाघा सीमा पर एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया था. पाकिस्तान के जाने माने गायक राहत फ़तह अली ख़ान और भारत के वडाली बंधुओं ने जुगलबंदी पेश की.

संबंधित समाचार