नीदरलैंड्स विश्व कप के फ़ाइनल में

नीदरलैंड्स

...तो उरुग्वे के रूप में फ़ुटबॉल विश्व कप में मौजूद दक्षिण अमरीकी देशों की एकमात्र चुनौती ख़त्म हुई और नीदरलैंड्स ने 32 साल बाद विश्व कप के फ़ाइनल में जगह बना ली.

केपटाउन में हुआ सेमी फ़ाइनल बहुत आकर्षक तो नहीं रहा, लेकिन आख़िरकार दूसरे हाफ़ में नीदरलैंड्स ने कुछ अच्छे खेल का प्रदर्शन किया और मैच उनके पाले में चला गया.

हालाँकि उरुग्वे की टीम ने आख़िर तक हार नहीं मानी और मैच आख़िरी क्षण थोड़ा रोमांचक उस समय हो गया, जब उरुग्वे ने दूसरा गोल किया. लेकिन नीदरलैंड्स ने मैच में जीत हासिल की और फ़ाइनल में पहुँचने वाली पहली टीम बनी.

पिछले विश्व कप में ऑल यूरोप फ़ाइनल था और इसमें भी यही होगा. जर्मनी या स्पेन में से कोई जीते....फ़ाइनल में दोनों टीमें अब यूरोप की ही होंगी.

ब्राज़ील के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त फ़ॉर्म दिखाने वाली नीदरलैंड्स की टीम ने इस मैच में उतना आकर्षक खेल नहीं दिखाया. हाँ, ये ज़रूर था कि वे बार-बार गोल पर आक्रमण ज़रूर करते रहे.

Image caption इस मैच में स्नाइडर ने अपना पांचवाँ गोल किया

नीदरलैंड्स को पहली सफलता उस समय मिली जब कप्तान जियोवनी वैन ब्रौंकोस्ट ने क़रीब 35 मीटर की दूरी से ऐसा शॉट लगाया कि किसी की समझ में कुछ नहीं आया..गोल कीपर मुस्लेरा भी चकमा खा गए.

इस बेहतरीन गोल की बढ़त के बाद लगा नीदरलैंड्स की टीम खेल को रोमांचक बनाएगी. लेकिन नीदरलैंड्स ने भी नकारात्मक तकनीक अपनाई और उरुग्वे की तरह उनका ध्यान डिफ़ेंस पर ज़्यादा लगा.

नीदरलैंड्स के डिफ़ेंस को भेंद न पाने की खीझ में उरुग्वे के कप्तान डिएगो फ़ोरलैन ने भी 41वें मिनट में दूर से शॉट लगाया और इस बार डच गोलकीपर को गेंद चकमा दे गई.

पांचवाँ गोल

इसके बाद खेल ने निराशाजनक रुख़ अख़्तियार कर लिया...लेकिन मैच के 70वें मिनट में पासा पलट गया, जब स्नाइडर का एक शॉट गोलपोस्ट से टकराकर गोल में चला गया. ये इस विश्व कप में स्नाइडर का पांचवाँ गोल था.

इसके बाद तो नीदरलैंड्स की टीम पूरे फ़ॉर्म में आ गई और फिर तीन मिनट के अंदर ही आयन रॉबेन को गोल करने का बेहतरीन मौक़ा मिला.

रॉबेन ने हेडर से गोल करके अपनी टीम को 3-1 की बढ़त दिला दी. इसके बाद नीदरलैंड्स ने कई आक्रमण तो किए लेकिन उनके मन में जैसे ये बात बैठ गई थी कि वे जीत गए हैं.

मैच के अंतिम क्षणों में थोड़ी उठा-पटक हुई और परेरा ने एक गोल करके मैच को थोड़ा रोमांचक बना दिया. मैच ख़त्म होने में बहुत कम समय बचे थे और उरुग्वे की टीम किसी तरह एक और गोल करने की कोशिश में थी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं हो सका.

और 3-2 से मैच जीतकर नीदरलैंड्स ने 1978 के विश्व कप के बाद पहली बार विश्व कप में जगह बनाने में सफल हुई.....लेकिन अभी तक ख़िताब नहीं जीत पाई नीदरलैंड्स की टीम का रास्ता आसान नहीं होगा.

संबंधित समाचार