ये संन्यास लेने का सही वक़्त है: मुरलीधरन

मुथैया मुरलीधरन
Image caption मुरलीधरन ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का फ़ैसला कर लिया

क्रिकेट की दुनिया में टेस्ट मैचों में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले श्रीलंका के ऑफ़ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन का कहना है कि उनके लिए संन्यास लेने का ये बिलकुल सही वक़्त है.

मुरलीधरन ने घोषणा की है कि वो 18 जुलाई से भारत के ख़िलाफ गॉल में खेले जाने वाले पहले टेस्ट के बाद टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे. हालांकि एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के बारे में मुरली ने अभी कोई फ़ैसला नहीं लिया है.

बीबीसी से बात करते हुए मुरलीधरन ने कहा, "मैं अपने करियर से बहुत ख़ुश हूं. सबसे ज़्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड मेरे नाम पर है. और संन्यास लेने का फ़ैसला लेकर मैं बहुत संतुष्ट हूं."

2011 में होने वाले क्रिकेट विश्व कप में वो खेलेंगे या नहीं, ये अभी तय नहीं है. बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "वनडे के बारे में मैंने अभी कुछ सोचा नहीं है. विश्व कप में खेलने के बारे में भी फ़ैसला मैं चयनकर्ताओं से बातचीत के बाद ही करूंगा."

2011 में होने वाले विश्व कप की मेज़बानी भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश मिलकर कर रहे हैं.

मुरली आगामी चैंपियंस लीग में चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए खेलेंगे.

1996 में श्रीलंका का विश्व कप जीतना उनके करियर का सबसे यादगार लम्हा रहा. टेस्ट और वनडे दोनों में मुरलीधरन का शानदार करियर रहा है. उन्होंने 132 टेस्ट मैचों में 792 विकेट और 337 एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों में 515 विकेट लिए हैं.

उन्होंने अपने दम पर श्रीलंका को कई टेस्ट और वनडे मैचों में जीत दिलाई.

संबंधित समाचार