खेलों की तैयारी पूरी हो जाएगी: कलमाड़ी

  • 22 जुलाई 2010
सुरेश कलमाड़ी
Image caption सुरेश कलमाड़ी कहते हैं कि अब सुरक्षा की चिंता भी ख़त्म हो चुकी है

राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाड़ी ने कहा है कि राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी समय से पूरी हो जाएगी और ये सबसे बेहतरीन राष्ट्रमंडल खेल होंगे.

बीबीसी से एक विशेष बातचीत में कलमाड़ी ने कहा, "1982 के एशियाई खेलों के बाद भारत में इतना बड़ा खेलों का आयोजन नहीं हुआ है. 71 देश के 8000 से ज़्यादा खिलाड़ी इनमें हिस्सा लेंगे. सबका मानना था कि एक विकासशील देश इतने बड़े स्तर के खेल आयोजित नहीं कर पाएगा लेकिन अब लोग कह रहे हैं कि ये राष्ट्रमंडल खेल मेलबर्न से भी बेहतर खेल हो सकते हैं."

उन्होंने कहा, "बहुत से लोगों ने सोचा था कि दक्षिण अफ़्रीका जैसे विकासशील देश में फ़ीफ़ा विश्व कप अच्छे ढंग से नहीं हो पाएगा लेकिन ऐसा हुआ. हमने भी खेलों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर की तैयारियां की हैं. हमारा गेम्स विलेज बीजिंग से भी बेहतर है."

हाल ही में राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी को लेकर कई सवाल उठे हैं. कहा जा रहा है कि तैयारी बहुत धीमी चल रही है और अभी तक ज़रूरत से ज़्यादा ख़र्च हो चुका है.

सुरेश कलमाड़ी ने इसका का खंडन करते हुए कहा, "जब ये खेल ख़त्म हो जाएंगे तो सब कहेंगे कि ये अब तक के सबसे बेहतरीन राष्ट्रमंडल खेल थे."

कलमाड़ी ने दिल्ली को एक नया रूप देने की तैयारियों के बारे में कहा, "जब लोग खेलों के लिए दिल्ली आएंगे तो उन्हें दिखेगा कि ये कितना आधुनिक शहर है और यहां अच्छी सुविधाएं उपलब्ध हैं."

उनका कहना है, "खेलों की तैयारियों के दौरान हमें काफ़ी चुनौतियों का सामना तो करना पड़ा लेकिन मेरे हिसाब से सबसे बड़ी चुनौती ये है कि क़रीब 15,000 लोग अपने गांवों और शहरों से दिल्ली आएंगे. उनके लिए सारा इंतज़ाम करना पड़ेगा और उनकी देखभाल करनी पड़ेगी."

हाल ही में कई शीर्ष अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने आगामी राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने पर असमर्थता दिखाई है. इनमें शामिल हैं यूसेन बोल्ट, क्रेस हॉय और विक्टोरिया पेंडलटन.

इस इनकार पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कलमाड़ी ने कहा, "हर देश से खिलाड़ियों की बड़ी-बड़ी टीमें आ रही हैं. ये बहुत बड़ी बात है. अभी हमें खिलाड़ियों के नाम नहीं मिले हैं इसलिए कहा नहीं जा सकता कि कौन आ रहा है और कौन नहीं. इनमें से कुछ खिलाड़ी इसलिए नहीं आ पा रहे हैं क्योंकि उन्हें ओलिंपिक क्वालिफ़ायर्स में हिस्सा लेना है."

"जो खिलाड़ी नहीं आएंगे, वो एक बेहतरीन अनुभव से वंचित रह जाएंगे. दुख हमें नहीं, उन्हें होना चाहिए."

सुरेश कलमाड़ी ने माना कि एक समय पर खेलों की सुरक्षा व्यवस्था चिंता का विषय थी लेकिन अब ऐसा नहीं है.

सुरेश कलमाड़ी का कहना है कि राष्ट्रमंडल खेलों का उद्घाटन और समापन समारोह कमाल का होगा और इसमें भारत के 5000 साल का इतिहास दिखाया जाएगा.

संबंधित समाचार