क्रिकेट और सट्टेबाज़ी का संबंध पुराना है

हैंसी क्रोनिए
Image caption हैंसी क्रोनिए का मामला सबसे कुख़्यात मामला था

क्रिकेट और सट्टेबाज़ी का रिश्ता कोई आज की बात नहीं और इनका संबंध बड़ा पुराना है.

तक़रीबन दस साल पहले दक्षिण अफ्रीका के कैप्टन हैंसी क्रोनिए ने मैच फिक्स करने के लिए सटोरियों से रिश्वत लेने की बात क़बूल की थी.

उसके बाद से दुनिया भर के क्रिकेट बोर्ड्स खेल की छवि पर लग गए इस बदनुमा दाग़ को साफ़ करने की लगातार कोशिश करते रहे हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानी आईसीसी ने भ्रष्टाचार से निबटने के लिए एक विशेष इकाई का गठन किया है. लेकिन 'स्प्रेड बेटिंग' के कारण इस समस्या पर काबू कर पाना मुश्किल हो रहा है.

छोटी-छोटी बातों पर सट्टा

आमतौर पर बेटिंग या सट्टेबाज़ी हार या जीत पर होती है लेकिन 'स्प्रेड बेटिंग' में किसी भी बात पर सट्टा लग जाता है और इसमें देखा ये जाता है कि आपका अनुमान कितना सटीक बैठता है.

इसमें सटोरिए खेल के विशेष हिस्सों पर सट्टे लगते हैं.

मसलन, कोई एक खिलाड़ी कितने रन बनाएगा या किसी खास गेंदबाज़ कितने विकेट झट लेगा.

Image caption बॉब वुल्मर की मौत ने एक बार फिर पाकिस्तानी खिलाड़ियों को कटघरे में खड़ा कर दिया था

सटोरियों के लिए इस तरह की सट्टेबाज़ी आसान होती है क्योंकि इसके लिए उन्हें किन्हीं एक और दो खिलाड़ियों को ही साथ मिलाना होता है.

क्रिकेट में मैच फिक्सिंग के आरोप नब्बे के दशक से ही लगते रहे हैं और इनमें ज़्यादातर का ताल्लुक़ दक्षिण एशियाई देशों की टीमों से था.

वर्ष 2000 में हैंसी क्रोनिए के साथ साथ भारत के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन और पाकिस्तान टीम के कप्तान सलीम मलिक पर मैच फिक्सिंग के आरोपों की वजह से आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था.

आस्ट्रलिया के खिलाड़ी शेन वॉर्न और मार्क वॉ ने सलीम मलिक पर आरोप लगाया था कि उन्हें ख़राब प्रदर्शन करने के लिए रिश्वत देने का प्रस्ताव दिया था.

लेकिन साथ ही वॉर्न और वॉ ने यह भी स्वीकार किया कि उन्होंने मौसम और पिच संबंधित जानकारी श्रीलंका के एक सटोरिये को दिए थे.

1999 के वर्ल्ड कप में एक कमज़ोर टीम बांग्लादेश के हाथों पाकिस्तान की हार को लेकर भी काफी सवाल खड़े हुए थे. अम्पायर डरेल हाइर ने करीब चार साल पहले पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर गेंद के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगाया था. उस समय भी कई तरह के प्रश्न खड़े हुए थे जब वर्ष 2007 में पाकिस्तान की आयरलैंड के हाथों आश्चर्यजनक हार के बाद पाकिस्तान टीम के कोच बॉब वूल्मर जमैका में संदिग्ध अवस्था में मरे हुए पाए गए थे.

इन सभी मामलों में हुई जांच के बाद पाकिस्तानी खिलाड़ियों को दोष मुक्त करार दिया गया था लेकिन उनकी ख़राब छवि पहले से भी बदतर हो गई.

संबंधित समाचार