पाक के ख़िलाफ़ साज़िश: मलिक

मोहम्मद आसिफ़ और मोहम्मद आमिर
Image caption मोहम्मद आसिफ़ और मोहम्मद आमिर पर पैसे लेकर नो बॉल फेंकने का आरोप है

पाकिस्तान के गृहमंत्री रहमान मलिक को लगता है कि पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ियों पर सट्टेबाज़ी का आरोप एक साज़िश है और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ एक दुष्प्रचार हो रहा है.

उनका कहना है कि ऐसा पहले भी हो चुका है.

एक उच्चस्तरीय जाँच दल के गठन की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि वे इंटरपोल के ज़रिए लंदन की स्कॉटलैंड यार्ड के संपर्क में हैं और अनुमति माँगी गई है कि यह दल लंदन जाकर स्कॉटलैंड यार्ड के साथ मिलकर जाँच कर सके.

पिछले रविवार को लंदन के एक अख़बार ने दावा किया था कि पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान सलमान बट्ट और दो गेंदबाज़ों मोहम्मद आसिफ़ और मोहम्मद आमिर को सट्टेबाज़ी करने वाले एक गिरोह पहले से तय समय पर नो बॉल फेंकने के लिए पैसे दिए थे.

अख़बार ने कहा है कि इसके बाद इंग्लैंड के ख़िलाफ़ खेले जा रहे टेस्ट मैच में तय समय पर नो बॉल फेंकीं भी गईं.

अब स्कॉटलैंड यार्ड इस मामले की जाँच कर रही है और उसने इस सिलसिले में एक व्यक्ति मज़हर मजीद को गिरफ़्तार भी किया है.

इसके अलावा एक महिला सहित तीन और लोगों को गिरफ़्तार किया गया था लेकिन उन्हें बाद में ज़मानत पर छोड़ दिया गया है.

जाँच दल

गृहमंत्री रहमान मलिक ने पत्रकारों को बताया कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों के ख़िलाफ लगे सट्टेबाज़ी के आरोपों की लंदन में हो रही जाँच की जानकारी माँगी गई है.

उन्होंने कराची में कहा, “लंदन में स्कॉटलैंड यार्ड का जाँच दल इस मामले की जाँच कर रहा है और हमने इंटरपोल के ज़रिए उनसे संपर्क किया है.”

उनका कहना था,“स्कॉटलैंड यार्ड ने अभी तक हमें कोई रिपोर्ट नहीं दी है और कोशिश की जा रही है कि तुरंत रिपोर्ट मिल जाए.”

रहमान मलिक ने बताया कि उन्होंने संघीय जाँच एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारियों की एक जाँच समिति का गठन किया है और लंदन से अनुमति मिलने के बाद पाकिस्तानी जाँच दल को भेजा जाएगा.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी जाँच दल स्कॉटलैंड यार्ड के साथ मिल कर जाँच करेगा.

उन्होंने कहा,“पाकिस्तान के ख़िलाफ बड़ी साज़िश हुई है और यह पहले भी हो चुका है. मुझे लगता है कि हमारी टीम के ख़िलाफ़ दुष्प्रचार किया जा रहा है.”

उनके अनुसार टीवी चैनल पर दिखाया जा रहा वीडियो जाली भी हो सकता है.

गृहमंत्री ने बताया कि जाँच के बाद अगर कोई भी खिलाड़ी सट्टेबाज़ी में लिप्त पाया गया तो उसे कड़ी सज़ा दी जाएगी.

उधर खेल मंत्री एजाज़ जख़रानी ने उन ख़बरों का खंडन किया जिसमें कहा गया था कि इंग्लैंड के ख़िलाफ हो रही वन-डे श्रृखंला के लिए टीम बदल दी गई है.

उन्होंने बताया कि जाँच एजेंसी की रिपोर्ट आने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा.

इस बीच राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी ने क्रिकेट खिलाड़ियों के ख़िलाफ सट्टेबाज़ी के आरोपों पर क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष एजाज़ बट से आरंभिक रिपोर्ट माँगी है.

इससे पहले पाकिस्तान के कुछ क्रिकेट खिलाड़ियों पर सट्टेबाज़ी में शामिल होने का आरोप लगने के बाद प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने कहा था कि इससे 'देश का सिर शर्म से झुक गया है'.

उधर खेलमंत्री इजाज़ जख़रानी ने कहा था कि यदि कोई खिलाड़ी दोषी पाया जाता है तो उस पर आजीवन प्रतिबंध लगाया जा सकता है.

संबंधित समाचार