बच्चों के बीच हिट है शेरा

राष्ट्रमंडल खेल आम लोगों में कितने लोकप्रिय हो पाएँगे, ये कहना मुश्किल है लेकिन लगता है जनाब शेरा काफ़ी लोकप्रिय हो रहे हैं- कम से बच्चों के बीच तो शेरा एकदम हिट है.

हाल में शेरा दिल्ली के वसंत वैली स्कूल में आया तो बीबीसी की टीम भी वहाँ मौजूद थी. बच्चों में उत्साह देखने लायक था. मासूम बच्चे शेरा को देखकर ख़ुशी से ऐसे उछल रहे थे मानो कोई मनभावन खिलौना मिल गया हो.

कोई उसकी पूँछ पकड़ कर खेल रहा था तो कोई उसका नाक पकड़ रहा था. एक नन्ही बच्ची ऐसी भी थी जो शेरा को असली शेर समझकर सहम गई और अपनी टीचर से लिपट गई. शेरा को स्कूल में बुलाकर दरअसल बच्चों को राष्ट्रमंडल खेलों के प्रति जागरुक करने की कोशिश की जा रही थी.

शेरा जी बच्चों से मिलने आ तो गए लेकिन बच्चों के बीच से शेरा का जाना मुश्किल हो गया था...बच्चे छोड़ने को तैयार ही नहीं थे...ज़ाहिर है शेरा का शो हिट रहा.

पल-पल की ख़बर

दिल्ली में मॉनसून इस बार मेहरबान है. सितंबर में भी रिमझिम बारिश हो रही है. ज़ाहिर है राष्ट्रमंडल खेल आयोजकों को चिंता है कि कहीं बरखा रानी खेलों के दौरान न बरस पड़े. मौसम विभाग के मुताबिक इस बात के आसार ज़्यादा है कि अक्तूबर में बारिश हो सकती है.

मौसम विभाग अब योजना बना रहा है कि वो आने वाले दिनों में अलग-अलग क्षेत्रों में बने हर खेल स्थल से जुड़ी मौसम की जानकारी देगा. दिल्ली में इन दिनों बारिश का रुझान कुछ ऐसा है कि एक इलाक़े में बारिश होती है तो दूसरा सूखा रहता है. बारिश होती रहेगी तो यातायात पर भी असर पड़ेगा ही. वैसे आमतौर पर सितंबर के शुरु में मॉनसून की वापसी शुरु हो जाती है लेकिन इस दफ़ा वो जल्द लौटने के मूड में नहीं लग रहा.

चेयरमैन का ब्लॉग

इन दिनों हर आमो-ख़ास ब्लॉग लिखता है. दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की वेबसाइट पर नज़र डाली तो ‘चेयरमैन्स ब्लॉग’ नाम से एक कॉलम नज़र आया. क्लिक करने पर देखा सुरेश कलमाड़ी का ब्लॉग है.

इसमें केवल दो एंट्री है- 26 अगस्त और 23 जुलाई. ब्लॉग में मुख्यत कलमाड़ी ने मीडिया को ही आड़े हाथों लिया है. अगस्त 26 की एंट्री वे लिखते हैं कि आम लोगों की राय बदलने का माद्दा रखने वाले तथ्यों को सही तरीके से पेश ही नहीं करते.

जबकि 23 जुलाई वाले ब्लॉग में वही पुराना राग है कि खेल शानदार तरीके से होंगे और बड़े-बड़े खिलाड़ी आएँगे. कलमाड़ी ने लिखा है कि ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रमंडल खेलों की वेबसाइट में ओलंपिक विजेता स्टेफ़नी राइस जैसे खिलाड़ियों का नाम दिल्ली आने वाले खिलाड़ियों की सूची में शामिल है. पर स्टेफ़नी तो कॉमनवेल्थ खेलों से अपना नाम वापस ले चुकी हैं. ज़ाहिर है स्टार खिलाड़ियों के आने या न आने से खेलों की चमक-दमक पर असर तो पड़ता ही है.

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

किसी और ऑडियो/वीडियो प्लेयर में चलाएँ

नज़र मेडल पर

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.