'कुत्ते आराम करते पाए गए'

क्रेग हंटर
Image caption इंग्लैंड के दल के प्रमुख ने काफ़ी कड़ी आलोचना की है

राष्ट्रमंडल खेलों में इंग्लैंड के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख क्रेग हंटर ने खेल गाँव की दुर्दशा का हाल बयाँ करते हुए बताया है कि वहाँ तो रज़ाई पर कुत्ते सोते पाए गए हैं.

बीबीसी हिंदी से विशेष बातचीत में हंटर ने खेलों की आयोजन समिति के महासचिव ललित भनोट के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी जिसमें भनोट ने कहा था कि भारत और पश्चिमी देशों के सफ़ाई के मानदंड अलग-अलग हैं

हंटर ने कहा, "ये बात तो समझ में आती है कि अलग-अलग देशों में सफ़ाई के मानदंड अलग हैं मगर किसी भी खेल गाँव में सफ़ाई का एक न्यूनतम स्तर होता है और यहाँ का खेल गाँव उस न्यूनतम स्तर पर खरा नहीं उतरता."

उन्होंने बताया कि वेल्स की टीम के प्रतिनिधियों ने उन्हें खेल गाँव के कमरों में कुत्तों के घूमने के बारे में भी बताया है.

हंटर के मुताबिक़, "वेल्स के हमारे सहयोगियों ने बताया कि उन्होंने दो कुत्तों को खिलाड़ियों के लिए ख़ास तौर पर बनाई गई रज़ाई पर सोते हुए देखा. "

मगर बात वहीं नहीं रुकी और हंटर का कहना था कि उसके बाद वे कुत्ते खिलाड़ियों की नहाने वाली जगह पर गए और वहाँ पर पेशाब करने के बाद फिर कूद करके रज़ाई पर जाकर सो गए.

'हालत बेहद बुरी'

हंटर के अनुसार उन लोगों को भरोसा दिलाया गया था कि कुत्ते खेल गाँव से बाहर कर दिए जाएँगे मगर उनकी संख्या कम होने की बजाए बढ़ी ही है.

उन्होंने खेल गाँव के बुरे हालात का ज़िक्र करते हुए कहा, "शौचालय की हालत बेहद बुरी है. इतना ही नहीं एयरकंडिशनिंग काम नहीं कर रही है. ज़्यादा बारिश की वजह से नीचे ठीक से पानी नहीं निकल पा रहा है और पानी भर गया है."

इतना ही नहीं हंटर की ये सूची लंबी होती गई, "बाथरूम में दरवाज़े ग़लत तरीक़े से लगा दिए गए हैं जिससे वे बाहर की बजाए अंदर खुलते हैं और इन हालात में बाथरूम में घुसना भी मुश्किल हो रहा है. ठंडे और गर्म पानी की जो टोंटियाँ लगी हैं वो उल्टी लग गई हैं जिससे ठंडे से गर्म और गर्म से ठंडा पानी आ रहा है."

हंटर का कहना है कि खिलाड़ी 23 सितंबर से आने वाले हैं और तब तक सारी तैयारी पूरी करना एक चुनौती ही होगी.

संबंधित समाचार