कॉमनवेल्थ खेलों पर चिंताएं बढ़ीं

  • 22 सितंबर 2010
वेल्स की टीम
Image caption वेल्स टीम ने दिया अल्टीमेटल

दिल्ली में होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेल बुधवार को मुसीबतों में घिरते नज़र आए. मंगलवार को 'फ़ुट ओवरब्रिज' गिरने के बाद बुधवार को वेटलिफ़्टिंग एरिना की फ़ाल्स सिलिंग का एक हिस्सा गिर गया.

इंग्लैंड की टीम ने आयोजन पर चिंताएं जताईं हैं तो स्कॉटलैंड ने अपनी टीम को दिल्ली भेजने का कार्यक्रम फ़िलहाल टाल दिया है. वेल्स की टीम ने कहा है कि उन्हें आयोजन समिति से खेल गांव और आयोजन स्थलों के बारे में बुधवार शाम तक आयोजकों से आश्वासन चाहिए.

ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड की सरकारों ने भी दिल्ली में खेलों की तैयारी पर निराशा व्यक्त की है.

उधर आयोजन समिति लगातार कह रही है कि सारी तैयारियां वक़्त पर पूरी हो जाएंगीं.

कॉमनवेल्थ खेलों में हिस्सा लेने आ रही वेल्स की टीम ने आयोजन समिति को बुधवार शाम तक आयोजन स्थलों और खेल गांव के खेलों के लिए उपयुक्त होने की पुष्टि करने के लिए कहा है.

ये अभी साफ़ नहीं है कि बुधवार शाम तक अगर आयोजन समिति वेल्स की टीम को तैयारियों के प्रति आश्वस्त नहीं करती है तो वे क्या क़दम उठाएंगे.

वेल्स की टीम ने अपने बयान में कहा है, "हमारी प्राथमिकता टीम की सुरक्षा और स्वास्थ्य है, और इसीलिए हम खेल गांव से जुड़े मुद्दे को सुलझाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. मंगलवार को पुल के गिरने और बुधवार को 'फ़ाल्स सिलिंग' के टूटने के बाद हमने अपने क़दम पीछे खींचे हैं और अब हम इस बात की जांच कर रहे हैं कि ऐसे माहौल में खिलाड़ियों को धकेलना कितना सुरक्षित है."

फ़ेनेल की गुज़ारिश

राष्ट्रमंडल खेल फ़ेडरेशन के अध्यक्ष माइकल फ़ेनेल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलने की गुज़ारिश की है लेकिन फ़िलहाल उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है.

बीबीसी से बात करते हुए खेल फ़ेडरेशन के मुख्य कार्यकारी माइक हूपर ने ये जानकारी दी और कहा कि फ़ेनेल गुरूवार को भारत पहुंच रहे हैं.

फ़ेनेल गुरुवार को भारत आ रहे हैं.

उन्होंने बताया कि उनके आने का कार्यक्रम पूर्व निर्धारित था लेकिन अब फ़ेनेल ने प्रधानमंत्री से मिलने के लिए वक्त मांगा है.

फ़ेनेल ने खेल की तैयारियों पर काफ़ी असंतुष्टि ज़ाहिर की है और कैबिनेट सचिव तक को पत्र लिखकर जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है.

'फ़ाल्स सिलिंग' का हिस्सा गिरा

बुधवार को जवाहर लाल नेहरु स्टेडियम परिसर में स्थित भारोत्तोलन एरीना की 'फ़ाल्स सीलिंग' का एक हिस्सा गिर गया. इससे पहले मंगलवार को जवाहर लाल नेहरु स्टेडियम के पास बन रहा एक 'फ़ुट ओवरब्रिज' भी गिर गया था.

बुधवार को ही खेलगांव की तैयारियों पर उठ रहे सवालों को देखते हुए स्कॉटलैंड ने अपने खिलाड़ी दल की रवानगी को भी कुछ समय के लिए टाल दिया है.

उधर कॉमनवेल्थ खेलों की सुरक्षा और तैयारियों को लेकर उठ रहे सवालों के बीच न्यूज़ीलैंड के प्रधानमंत्री जॉन की ने कहा है कि अगर इस बार खेल नहीं हुए तो इससे हमेशा के लिए कॉमनवेल्थ खेलों का भविष्य संकट में पड़ जाएगा

संबंधित समाचार