'नाडा' ने 11 खिलाड़ियों से प्रतिबंध हटाया

Image caption मिथाइलहेक्सानएमीन के अंश इन खिलाड़ियों के नमूनों की जाँच में पाए गए थे.

नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (नाडा) ने दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने वाले एक खिलाड़ी समेत 11 खिलाड़ियों के अस्थाई निलंबन को बुधवार को वापस ले लिया.

'नाडा' का यह फ़ैसला वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी यानि ‘वाडा’ के उस निर्णय के बाद आया है जिसमें वाडा ने उन ड्रग्स को नशीले पदार्थों की सूची से हटा दिया गया था, जिनके सेवन का दोष इन खिलाड़ियों पर था.

बाकी है सज़ा पर फ़ैसला

'नाडा' के निदेशक राहुल भटनागर ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, ''मिथाइलहेक्सानएमीन के लिए 'बी' नमूना फेल हो जाने के बाद 11 खिलाड़ियों पर लगाया गया अस्थाई प्रतिबंध वाडा का निर्णय आने के बाद हटा लिया गया है.''

उन्होंने बताया कि इन खिलाड़ियों को 25 सितंबर को सज़ा पर आने वाले नाडा पैनल के अंतिम फ़ैसले तक इंतज़ार करना होगा.

खिलाड़ियों के वकील आरके आनंद ने बताया कि तीन तैराकों और दो एथलीटों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया है. अव वे किसी भी प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं.

आनंद ने बताया कि शॉट पुट के खिलाड़ी सौरभ विज, डिस्कस थ्रो के खिलाड़ी आकाश अंतिल और तैराक ऋचा मिश्र, ज्योत्सना पनसारे और अमर मुरलीधरन को छोड़ दिया गया है. अब के किसी भी प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं.

सुनवाई के बाद पत्रकारों से आरके आनंद ने कहा,''इस मामले में छह पहलवानों के मामले में बहस हुई थी और उन पर 25 सितंबर को फ़ैसला सुनाया जाएगा''.

सौरभ विज राष्ट्रमंडल खेल में भाग लेने वाली टीम में शामिल एथलेटिक्स टीम में शामिल हैं, जबकि तैराक ऋचा मिश्र, ज्योत्सना पनसारे, पहलवान राजीव तोमर, सुमित, मौसम खत्री और गुरशरनप्रीत कौर को राष्ट्रमंडल टीम से हटा दिया गया था.

वहीं पहलवान राहुल मान और जोगिंदर सिंह, डिस्कस थ्रो के खिलाड़ी आकाश अंतिल और तैराक अमर मुरलीधरन का डोप टेस्ट पॉजिटिव पाया गया था लेकिन ये लोग राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने वाली टीम में शामिल नहीं थे.

संबंधित समाचार