चिंता बरकरार पर खेलों में हिस्सा लेंगे: न्यूज़ीलैंड

राष्ट्रमंडल खेल फ़ेडरेशन के अध्यक्ष माइकल फ़ेनेल ने कहा है कि खेल गाँव में चल रहे काम में ख़ासा सुधार हुआ है. फ़ेनेल गुरुवार को भारत पहुँचे और शुक्रवार को उन्होंने खेल गाँव का दौरा किया.

राष्ट्रमंडल खेल फ़ेडरेशन की वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, "माइक हूपर से मुझे जानकारी मिली है कि खेल गाँव के अंदर काफ़ी सुधार हुआ है. दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने अतिरिक्त संसाधन उपलब्ध करवाए हैं ताकि हालात सुधारे जा सकें जो पहले चिंताजनक बने हुए थे."

फ़ेनेल विभिन्न देशों के प्रतिनिधिमंडलों के प्रमुखों और भारत के कैबिनट सचिव केएम चंद्रशेखर से भी मिले हैं.

इस बीच न्यूज़ीलैंड ने कहा है कि हालात में सुधार को देखते हुए उसके खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा लेंगे हालांकि ये भी कहा कि वे हालात पर नज़र रखे हुए हैं.

न्यूज़ीलैंड की हामी

न्यूज़ीलैंड टीम के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख माइक स्टेनले का कहना है कि खेल गाँव में साफ़-सफ़ाई को लेकर चिंता बनी हुई है लेकिन टीम खेलों में भाग लेगी.

खेल गाँव के रिहाइशी इलाक़ों में गंदगी को लेकर भारत की काफ़ी आलोचना हुई है.

खेल गाँव की कुछ तस्वीरें भी सामने आई थीं जिसमें साफ़ तौर पर दिख रहा है कि कैसे बाथरूम बुरी तरह गंदे हैं, पान की पीक हर तरफ़ दिख रही है, बिस्तर पर कुत्ते के पैरों के निशान हैं और रिहाइशी इमारत के बाहर ही पानी भरा हुआ है.

गंदगी की बात सामने आने के बाद न्यूज़ीलैंड ने कहा था कि वो स्थिति पर नज़र रखेगा और फिर तय करेगा कि खिलाड़ियों को भेजना है या नहीं. स्कॉटलैंड ने भी अपनी टीम को दिल्ली भेजने का कार्यक्रम टाल दिया था.

इस बीच इंग्लैंड के कई खिलाड़ी शुक्रवार सुबह भारत पहुँच चुके हैं.

संबंधित समाचार