भाग्यशाली रहा है राष्ट्रमंडल

  • 1 अक्तूबर 2010
अंजलि भागवत
Image caption अंजलि भागवत फ़िलहाल ब्रेक पर हैं

भारत की जानीं-मानीं महिला निशानेबाज़ अंजलि भागवत इन दिनों निशानेबाज़ी से दूर हैं.

लेकिन राष्ट्रमंडल खेलों में शानदार रिकॉर्ड रखने वालीं अंजलि को भरोसा है कि कम अनुभवी होने के बावजूद भारतीय महिला निशानेबाज़ दिल्ली खेलों में अच्छा प्रदर्शन करेंगी.

अंजलि कहती हैं कि राष्ट्रमंडल खेलों में उन्होंने हमेशा से ही अच्छा प्रदर्शन किया है. राष्ट्रमंडल खेलों में महिला निशानेबाज़ी में राइफ़ल मुक़ाबलों के रिकॉर्ड अंजलि भागवत के नाम है.

अंजलि ने मैनचेस्टर राष्ट्रमंडल में चारों स्वर्ण पदक रिकॉर्ड के साथ जीते थे. इससे पहले उन्होंने ऑकलैंड में तीन स्वर्ण पदक और एक रजत पदक जीता था.

भाग्यशाली

बीबीसी के साथ एक विशेष बातचीत में अंजलि भागवत ने कहा, "राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप में भी मैंने कई स्वर्ण पदक जीते हैं. राष्ट्रमंडल खेल मेरे लिए हमेशा से ही भाग्यशाली रहा है."

नए महिला निशानेबाज़ों के बारे में अंजलि कहती हैं कि वे सब काफ़ी प्रतिभाशाली हैं, लेकिन उन्हें कम अनुभव है.

निशानेबाज़ी के क्षेत्र में अपना हाथ आज़माने के बारे में अंजलि भागवत ने कहा कि उन्हें पहले पता ही नहीं था कि शूटिंग जैसा कोई मुक़ाबला ओलंपिक या एशियाई खेलों में है.

अंजलि बताती हैं, "एनसीसी के दौरान मुझे राइफ़ल शूटिंग की ट्रेनिंग दी जाती थी. अंतर महाविद्यालय प्रतियोगिताओं में मैं अच्छा कर लेती थी. इसके बाद हम महाराष्ट्र राइफ़ल एसोसिएशन में प्रैक्टिस के लिए जाते थे. वहाँ मेरी मुलाक़ात निशानेबाज़ों से हुई और फिर निशानेबाज़ी में हाथ आज़माने का मौक़ा मिला."

मुश्किल

महिला होने के कारण करियर में मुश्किलों की बात पर अंजलि कहती हैं कि भारतीय समाज में तो महिलाओं को समस्याओं का सामना करना ही पड़ता है लेकिन वे ख़ुशकिस्मत हैं कि उन्हें परिवार का पूरा समर्थन मिला.

अंजलि भागवत इस समय अपना ज़्यादा समय अपनी नवजात बिटिया को देती हैं लेकिन वे बच्चों को शूटिंग भी सिखाती हैं.

अंजलि को फ़िल्में देखने का थोड़ा-बहुत शौक है लेकिन वे क्लासिकल म्यूज़िक को बहुत पसंद करती हैं और आशा भोंसले उनकी पसंदीदा कलाकार हैं.

निशानेबाज़ी के अलावा टेनिस देखना अंजलि को बहुत पसंद है और स्टेफ़ी ग्राफ़ उनकी फ़ेवरिट प्लेयर हैं.

संबंधित समाचार