रैना पर लगे आरोप निराधार: बीसीसीआई

सुरेश रैना
Image caption भारतीय क्रिकेट अधिकारियों ने ख़ुलकर सुरेश रैना का बचाव किया है

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने मीडिया में छपी उन ख़बरों का खंडन किया है जिसमें सुरेश रैना को एक सट्टेबाज के नजदीकी के साथ देखे जाने की बात की गई थी.

बीबीसीसीआई के सचिव एन श्रीनिवासन के मुताबिक, "मीडिया में इस तरह की ख़बर आई है कि श्रीलंकाई क्रिकेट टीम ने बीसीसीआई को सुरेश रैना के बारे में एक रिपोर्ट सौंपी है जिस पर बोर्ड ने कोई कार्रवाई नहीं की. बीसीसीआई स्पष्ट करना चाहता है कि उसे इस तरह की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है. मीडिया में छपी इस तरह की ख़बरें बिल्कुल निराधार और झूठी हैं."

लंदन के एक अख़बार 'द संडे टाइम्स' में ख़बर छपी थी कि इस वर्ष भारतीय टीम के श्रीलंका दौरे के दौरान सुरेश रैना को एक ऐसी महिला के साथ देखा गया जो एक ऐसे व्यक्ति की सहयोगी हैं जिसका संपर्क कथित तौर पर एक सट्टेबाज़ से बताया जाता है.

खंडन

बीसीसीआई प्रवक्ता और उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने भी रैना के बारे में आई ख़बर को बेबुनियाद बताया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार राजीव शुक्ला ने इस बारे में कहा,"बीसीसीआई को कभी भी इस मामले पर कोई शिकायत नहीं मिली. असल में वो महिला रैना की एजेंट हैं. रैना कुछ काग़ज़ात पर हस्ताक्षर करने के लिए उनके साथ थे. इसका क्रिकेट के बाहर के मामलों से कोई लेना-देना नहीं है."

ग़ौरतलब है कि इस वर्ष क्रिकेट जगत में एक बार फिर से सट्टेबाज़ी का संकट गहराने लगा है.

हाल ही में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच के दौरान पाकिस्तान के तीन खिलाड़ियों - सलमान बट्ट, मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमिर - पर स्पॉट फिक्सिंग के आरोप लगने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने उन्हें निलंबित कर दिया था.

मोहम्मद आसिफ़, मोहम्मद आमिर और सलमान बट्ट पर ये आरोप है कि उन्होंने पैसे लेकर 'स्पॉट फ़िक्सिंग' की थी और मैच के दौरान जान-बूझकर नो बॉल गेंदें फेंकी थी.

संबंधित समाचार