पंकज आडवाणी ने भारत को पहला स्वर्ण दिलाया

  • 14 नवंबर 2010
पंकज आडवाणी
Image caption 25 वर्षीय पंकज आडवाणी से लोगों की काफ़ी उम्मीद थी और वे कामयाब रहे

चीन में हो रहे एशियाई खेलों में पंकज आडवाणी ने इंग्लिश बिलियर्ड्स की पुरूष एकल प्रतिस्पर्धा में भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलवाया है.

पंकज आडवाणी ने बर्मा के ओ ने थ्वे ओ को फ़ाइनल में 3-2 सेशिकस्त दी. 25 वर्षीय अडवाणी से काफ़ी उम्मीद जताई जा रही थी और वे कामयाब रहे.

जीत के बाद संवाददताओं से बातचीत करते हुए आडवाणी ने कहा, "मुझे बेहद खुशी है...इस जीत की मुझे सख्त जरूरत थी."

ग़ौरतलब है कि पिछले दो विश्व चैंपियनशिप मुक़ाबले में वे हार चुके थे.

उन्होंने कहा कि एशियाई खेलों में देश के लिए पहला स्वर्ण जीत कर वे काफ़ी ख़ुश हैं.

इस तरह भारत की झोली में अब तक पाँच पदक आ चुके हैं. इससे पहले शनिवार को निशानेबाज़ी में भारत को दो रजत मिला था.

जहाँ भारत के प्रमुख निशानेबाज़ गगन नारंग को सफलता मिली वहीं बीजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा को निराशा हाथ लगी.

बिंद्रा ने यूँ तो 10 मीटर एयर राइफ़ल स्पर्द्धा में टीम को रजत पदक दिलाने में अहम भूमिका निभाई मगर एकल मुक़ाबले में वो चूक गए.

चीन के ग्वांगजो शहर में हो रहे कुल 42 खेलों में 476 स्वर्ण पदकों के लिए एथलिट्सों के दाँव लगे हैं.

चार साल पहले दोहा में हुए एशियाई खेलों में भारत को 10 स्वर्ण सहित 53 पदक मिले थे और भारत पदक तालिका में आठवें स्थान पर था.

संबंधित समाचार