एशियाड में भी खाली स्टेडियम

  • 16 नवंबर 2010
Image caption एशियाड में भी स्टेडियम खाली पड़े हुए हैं.

एशियाई खेलों के आयोजकों के सामने भी अब ख़ाली स्टेडियम का जिन्न आ खड़ा हुआ है.

शुरुआती दो दिनों में स्टेडियमों से लोगों के नदारद होने के बाद अब आयोजकों ने चार लाख अतिरिक्त टिकट बेचने का फ़ैसला किया है.

आधिकारिक रूप से सभी स्टेडियमों के सारे टिकट बिक चुके हैं मगर फिर भी स्टेडियम ख़ाली पड़े हैं और टिकट ख़रीदना चाह रहे खेल प्रशंसकों को टिकट नहीं मिल रहे.

आयोजक इस मसले को पिछले महीने दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेलों की तरह हाथ से बाहर नहीं होने देना चाहते और उन्होंने तुरंत क़दम उठाते हुए चार लाख अतिरिक्त टिकट बेचने का निर्णय लिया.

दरअसल खेलों के आयोजकों को बड़ी संख्या में टिकट दिए गए हैं और आयोजन समिति ने लगभग दस लाख टिकट स्थानीय शहरियों को बाँटे हैं मगर उनमें से ज़्यादातर लोग स्टेडियम तक नहीं पहुँच रहे.

ये हालात तब हैं जबकि चीन के ही एथलीट्स ज़्यादातर मुक़ाबलों में सब पर भारी पड़ रहे हैं.

चीन के स्वर्ण पदकों की संख्या 50 को पार कर चुकी है जबकि दूसरी ओर अगर बाक़ी सभी देशों के स्वर्ण पदक जोड़ भी दिए जाएँ तो वे चीन से कम ही होंगे.

एशियाई ओलंपिक परिषद के प्रमुख शेख़ अहमद अल-फ़हद अल-सबाह ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “हमने आयोजन समिति में इस पर विचार किया और ये तय किया कि टिकटों की संख्या बढ़ाने की ज़रूरत है.”

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि इसमें टिकट बिक्री से जुड़ी कोई परेशानी नहीं है. वैसे ख़ाली सीटों को लेकर उनका कहना था कि ओलंपिक में भी शुरुआती दिनों में स्टेडियमों का ख़ाली होना आम बात है.

संबंधित समाचार