वीजेंदर फ़ाइनल में, तीरंदाज़ी में रजत

भारतीय खेल प्रेमियों की मुक्केबाज़ों से उम्मीदें काफ़ी हद तक पूरी तो हुईं मगर सुरंजय सिंह और एमसी मैरीकॉम की हार ने उस ख़ुशी को काफ़ी हद तक कम कर दिया.

नौ भारतीय मुक्केबाज़ सेमीफ़ाइनल में थे और यहाँ हार का मतलब था कि काँस्य पदक मिल जाना जबकि जीत का मतलब था कि फ़ाइनल के मुक़ाबले की तैयारी.

नौ में से पाँच मुक्केबाज़ों ने फ़ाइनल की राह तय कर ली है.सुरंजय सिंह और विश्व चैंपियन मुक्केबाज़ एमसी मैरीकॉम सेमीफ़ाइनल में हार गए.

हालाँकि भारतीय पक्ष का दावा है कि सुरंजय सिंह को जजों ने ठीक अंक नहीं दिए क्योंकि वो चीनी प्रतिद्वन्द्वी के विरुद्ध खेल रहे थे और यही हार की वजह बनी.

मैरीकॉम ने भी जजों पर स्थानीय लोगों के दबाव का ज़िक्र किया और कहा कि उनकी प्रतिद्वन्द्वी ने उनके विरुद्ध कई फ़ाउल किए मगर रेफ़री ने उसे अनदेखा कर दिया.

मगर एशियाई खेलों में भारत के अब तक के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में विजेंदर कुमार, मनप्रीत सिंह, विकास कृष्ण, संतोष कुमार विरोठू और दिनेश कुमार ने फ़ाइनल में जगह बना ली.

विजेंदर का मुक़ाबला ईरान के मोहम्मद सत्तारपुर से था और पहले राउंड में तो वो 1-2 से पीछे भी थे मगर दूसरे राउंड से उन्होंने वापसी की और ज़ोरदार शॉट लगाए.

दूसरे राउंड में उन्हें चार और ईरानी मुक्केबाज़ को दो अंक मिले. अब तक विजेंदर के पास एक अंक की बढ़त हो चुकी थी.

अंतिम राउंड में भी उन्होंने विपक्षी को मौक़ा नहीं दिया और पाँच अंक झटके. मोहम्मद सत्तारपुर उस राउंड में तीन अंक जुटा पाए. इस तरह विजेंदर ने सात के मुक़ाबले 10 अंकों से मुक़ाबला जीत लिया.

हारने वालों में सुरंजय और मैरीकॉम के अलावा राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता परमजीत समोटा और कविता गोयत थे.

अन्य मुक़ाबले

अन्य जगहों पर तीरंदाज़ी में भारतीय तरुणदीप रॉय ने अच्छा प्रदर्शन किया मगर फ़ाइनल में वो दक्षिण कोरियाई तीरंदाज़ से हार गए और उन्हें रजत से संतोष करना पड़ा जबकि राहुल बनर्जी को कोई पदक हासिल नहीं हुआ.

स्क्वॉश में भारतीय पुरुष और महिला टीमें सेमीफ़ाइनल में हार गईं और उन्हें काँस्य पदक ही मिला.

कबड्डी में पुरुष और महिला दोनों ही टीमों ने कोरिया के विरुद्ध मैच जीत लिए और सेमीफ़ाइनल में जगह बना ली.

महिला हॉकी टीम का जापान से काँस्य पदक के लिए मुक़ाबला था मगर टीम 1-0 से हार गई और उसे कोई भी पदक नहीं मिल सका.

महिलाओं की 800 मीटर दौड़ के लिए सिनिमोल पाओलोज़ और टिंटू लूका ने फ़ाइनल में जगह बना ली है.गीता सत्ती महिलाओं की 200 मीटर दौड़ के फ़ाइनल में पहुँच चुकी हैं.

संबंधित समाचार