हॉकी में कांस्य की उम्मीद

  • 25 नवंबर 2010

अब जबकि एशियाई खेल समापन की ओर बढ़ रहे हैं भारत के लिए अब भी एथलेटिक्स और मुक्केबाज़ी में कुछ पदक लेने की उम्मीद बची है.

पुरुषों की हॉकी में भारत को काँस्य पदक के लिए दक्षिण कोरिया से भिड़ना होगा.

एथलेटिक्स में जहाँ महिलाओं की 800 मीटर रेस में टिंटू लूका और सिनिमोल पाओलोज़ मुक़ाबले में हैं तो मुक्केबाज़ी में विकास कृष्ण और दिनेश कुमार फ़ाइनल में हैं.

विकास का मुक़ाबला 60 किलोग्राम वर्ग में चीन के हू चिंग से है जबकि 81 किलोग्राम में दिनेश उज़बेकिस्तान के एलशोद रसूलोव से भिड़ेंगे.

एथलेटिक्स में महिलाओं की तिहरी कूद में प्रजूषा मलिअक्कल फ़ाइनल में हैं. महिलाओं की 200 मीटर दौड़ में गीता सत्ती ने फ़ाइनल में जगह बनाई है,

पुरुषों के 200 मीटर फ़ाइनल में सुरेश सत्या फ़ाइनल में पहुँचे हैं जबकि महिलाओं की भाला फेंक प्रतियोगिता में सरस्वती सुंदरम् हैं.

महिलाओं की 400 मीटर बाधा दौड़ का फ़ाइनल भी गुरुवार को ही होना है और भारत का प्रतिनिधित्व जौना मुर्मू और अश्विनी अक्कुनजी करने वाले हैं.

पुरुषों की 400 मीटर बाधा दौड़ में जोसेफ़ अब्राहम फ़ाइनल में हैं.

कुश्ती से उम्मीद

इनके अलावा कबड्डी में भारतीय महिला और पुरुष टीम सेमीफ़ाइनल में है. पुरुषों का मुक़ाबला जापान से और महिलाओं का ईरान से है.

इसके अलावा कुश्ती में भी भारतीय पहलवान अब तक के निराशाजनक प्रदर्शन से उबरने की कोशिश करेंगे.

फ़्रीस्टाइल कुश्ती के 96 किलोग्राम वर्ग में मौसम खत्री उतरेंगे तो 120 किलोग्राम वर्ग में राजीव तोमर से उम्मीदें हैं.

महिलाओं में फ़्रीस्टाइल के 48 किलोग्राम वर्ग में निर्मला देवी होंगी.

अन्य जगहों पर पुरुषों की 1000 मीटर एकल कयाकिंग में भूपेंदर सिंह पुंडीर ने भारत का झंडा थामा है.

वहीं पुरुषों की 1000 मीटर एकल कनूइंग स्पर्द्धा में जेम्सबॉय सिंह फ़ाइनल में हैं.पुरुषों की कनूइंग 1000 मीटर युगल और कयाक 1000 हज़ार मीटर फ़ोर स्पर्द्धा में भारतीय टीम ने फ़ाइनल में जगह बनाई है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार