वर्ष 2011 के अहम मुक़ाबलों पर नज़र

खेल 2011

वर्ष 2010 में खेल की दुनिया में कई अहम प्रतियोगिताएँ हुईं. हॉकी का विश्व कप हुआ, फ़ुटबॉल विश्व कप का आयोजन हुआ तो राष्ट्रमंडल खेल और एशियाई खेल भी हुए.

कई रिकॉर्ड बने और कई खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से सबका मन मोह लिया. तो इस वर्ष भी खेलों की दुनिया में कई शानदार प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है.

लेकिन वर्ष 2011 की शुरुआत ही धमाकेदार अंदाज़ में होगी.

पारंपरिक ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस प्रतियोगिता तो होगी ही, फरवरी में होने वाला क्रिकेट विश्व कप सबकी आकर्षण का केंद्र होगा.

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से उम्मीद होगी कि वो इस साल अपने टेस्ट शतकों की संख्या 50 पहुँचा लेंगे और भारत को विश्व कप जितवाने में भी मदद करेंगे.

इनके अलावा इंग्लिश प्रीमियर लीग फ़ुटबॉल, चैम्पियंस लीग पर भी दुनियाभर के खेल प्रेमियों की नज़र होगी.

टेनिस के ग्रैंड स्लैम मुक़ाबले तो होंगे ही. डेविस कप और फ़ेडरेशन कप का भी आयोजन होगा. रोजर फ़ेडरर और रफ़ाएल नडाल की प्रतिद्वंद्विता भी देखने को मिलेगी.

भारत की बात करें तो लिएंडर पेस, महेश भूपति, सानिया मिर्ज़ा के अलावा इस साल सोमदेव देववर्मन और रोहन बोपन्ना के प्रदर्शन पर भी नज़र होगी.

हॉकी में भारत ने वर्ष 2010 में अच्छा प्रदर्शन तो किया लेकिन कोई प्रमुख ख़िताब न जीत पाने की कसक भी रह गई. इस साल हॉकी टीम से उम्मीद रहेगी कि वो अच्छे प्रदर्शन से सबका मन मोहे.

वर्ष 2010 में भारतीय हॉकी टीम ने राष्ट्रमंडल खेलों में दूसरा स्थान हासिल किया था, तो एशियाई खेलों में टीम तीसरे स्थान पर रही थी.

तो आइए नज़र डाले वर्ष 2011 के अहम खेल मुक़ाबलों पर.

क्रिकेट

19 फरवरी से श्रीलंका, भारत और बांग्लादेश में होने वाले इस विश्व कप पर दुनियाभर की नज़र होगी. भारतीय उपमहाद्वीप में क्या फिर कोई एशियाई टीम जलवा दिखाएगी या फिर विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया का विजय रथ चलता रहेगा.

इस समय भारतीय टीम भी ज़बरदस्त फ़ॉर्म में है और प्रशंसक अपनी टीम से भी ख़िताब जीतने की उम्मीद बाँध रहे हैं.

पहले इस प्रतियोगिता का कुछ हिस्सा पाकिस्तान में भी खेला जाना था, लेकिन सुरक्षा कारणों से अब विश्व कप के मैच पाकिस्तान में नहीं खेले जाएँगे.

दो अप्रैल को विश्व कप का फ़ाइनल मैच मुंबई में खेला जाएगा. तो वर्ष 2011 के शुरू में ही क्रिकेट प्रेमियों को एक बेहतरीन प्रतियोगिता देखने को मिलेगी.

इसके अलावा तमाम विवादों और आरोप-प्रत्यारोपों के बीच इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का भी आयोजन होना है.

आईपीएल-4 में कोच्चि और पुणे की दो नई टीमें खेलेंगी. लेकिन किंग्स इलेबन पंजाब और राजस्थान रॉयल्स को आईपीएल से निलंबित करने के भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के फ़ैसले पर अभी अदालत की रोक लगी हुई है.

अभी तक आईपीएल-4 का कार्यक्रम घोषित नहीं हुआ है. लेकिन उम्मीद है कि अप्रैल-मई में ये प्रतियोगिता आयोजित होगी.

आईपीएल-4 के लिए खिलाड़ियों की बोली भी जनवरी में लगेगी और 12 खिलाड़ियों को छोड़ दिया जाए तो टीमों में कई नए चेहरे दिखेंगे.

भारतीय क्रिकेट की बात करें तो दिसंबर में दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ शुरू हो रही टेस्ट सिरीज़ जनवरी तक चलेगी और उसके बाद वनडे सिरीज़ भी खेली जाएगी.

तो विश्व कप से पहले भारतीय टीम का अहम मुक़ाबला दक्षिण अफ़्रीका से ही होना है. विश्व कप से पहले तैयारियों के सिलसिले में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड से एक-एक वनडे मैच भी खेलेगी.

जून में भारतीय टीम वेस्टइंडीज़ के दौरे पर जाएगी, जहाँ टीम एक टी-20 मैच, पाँच एक दिवसीय मैच और तीन टेस्ट मैच खेलेगी.

जुलाई में भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के दौरे पर जाएगी, जहाँ से चार टेस्ट मैच, एक टी-20 मैच और पाँच एक दिवसीय मैच खेलने है.

अन्य अहम क्रिकेट सिरीज़ में वेस्टइंडीज़ और पाकिस्तान के बीच सिरीज़ भी है, जो अप्रैल-मई में खेली जाएगी. इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच मई-जुलाई में सिरीज़ खेली जाएगी.

फ़ुटबॉल

फ़ुटबॉल की बात करें, तो यूरोप के कई देशों के अलग-अलग लीगों और चैम्पियंस लीग मुक़ाबले के अलावा भी कई प्रतिष्ठित प्रतियोगिताएँ इस साल होंगी.

शुरुआत क़तर में सात जनवरी से 29 जनवरी तक होने वाले एशिया कप से होगी. भारत सहित 16 टीमें इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले रही हैं. भारत की टीम ने वर्ष 2008 में एएफ़सी चैलेंज कप का ख़िताब जीतकर इस प्रतियोगिता के लिए क्वालीफ़ाई किया था.

ये 15वाँ एशिया कप होगा और दूसरी बार इसकी मेज़बानी क़तर को मिली है. भारत ने भी इस प्रतियोगिता की मेज़बानी का दावा ठोंका था, लेकिन बाद में अपना दावा वापस ले लिया था.

एशिया कप के मुक़ाबले दोहा के चार स्टेडियमों के अलावा अल रयान में भी खेला जाएगा. भारतीय टीम के ग्रुप में सीरिया, उत्तर कोरिया और कुवैत की टीमें हैं. प्रतियोगिता का फ़ाइनल 29 जनवरी को खेला जाएगा.

जून-जुलाई में मैक्सिको में अंडर-17 फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप का आयोजन होना है. ये प्रतियोगिता 18 जून से 10 जुलाई तक खेली जाएगी.

जून-जुलाई में ही महिलाओं का फ़ुटबाल वर्ल्ड कप खेला जाएगा. जर्मनी में होने वाला ये विश्व कप 26 जून से 17 जुलाई तक होगा.

जुलाई में एक और प्रतिष्ठित प्रतियोगिता का आयोजन होना है और वो है कोपा अमरीका. दक्षिण अमरीकी देशों के बीच खेली जाने वाली इस प्रतियोगिता की मेज़बानी इस बार अर्जेंटीना कर रहा है.

एक जुलाई से 24 जुलाई तक होने वाली इस प्रतियोगिता का मौजूदा चैम्पियन ब्राज़ील है. जापान और मैक्सिको की टीमें इस प्रतियोगिता में आमंत्रित टीम के रूप में हिस्सा लेंगे.

जुलाई-अगस्त में अंडर-20 विश्व कप कोलंबिया में खेला जाएगा. प्रतियोगिता 29 जुलाई से 20 अगस्त तक खेली जाएगी. इस प्रतियोगिता में 24 टीमें हिस्सा लेंगी. जबकि साल का अंत जापान में होने वाले फ़ीफ़ा क्लब विश्व कप से होगा.

वैसे भी इन सब प्रतियोगिताओं के अलावा हर साल की तरह यूरोपीय क्लब फ़ुटबॉल सबके आकर्षण का केंद्र होगा.

हॉकी

विश्व कप, राष्ट्रमंडल खेल और एशियाई खेलों में भारतीय टीम ख़िताब नहीं जीत पाई. अलबत्ता राष्ट्रमंडल खेल और एशियाई खेल में उसका प्रदर्शन अच्छा रहा.

इस साल भी भारत के पास हॉकी मैदान पर अपना दमख़म दिखाने के कई मौक़े रहेंगे. मई में उसे सात देशों की प्रतिष्ठित प्रतियोगिता सुल्तान अज़लान शाह में हिस्सा लेना है.

इस साल हॉकी की कई अहम प्रतियोगिताएँ होनी हैं. महिलाओं का जूनियर एशिया कप बैंकॉक में जून में खेला जाएगा.

जून में चार देशों की पुरुष हॉकी प्रतियोगिता रूस में खेली जाएगी. जून-जुलाई में नीदरलैंड्स में चार देशों की हॉकी प्रतियोगिता का आयोजन होना है.

23 से 31 जुलाई तक पुरुष एशिया कप हांगकांग में खेला जाएगा. महिलाओं की एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफ़ी सितंबर में चीन में खेली जाएगी. इसी समय पुरुषों की एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफ़ी भी चीन में ही होगी.

इस साल चैम्पियंस ट्रॉफ़ी का आयोजन भारत में होना है. लेकिन अभी इसकी तारीख़ तय नहीं हुई है.

टेनिस

टेनिस की दुनिया में एक बार फिर ग्रैंड स्लैम मुक़ाबलों में स्टार खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर तो नज़र होगी ही, उलटफेर करने वाले खिलाड़ी भी आकर्षण का केंद्र होंगे.

साल की शुरुआत जनवरी में ऑस्ट्रेलियन ओपन से होगी, तो मई-जून में फ़्रेंच ओपन और जून-जुलाई में विंबलडन जैसी प्रतिष्ठित प्रतियोगिता खेली जाएगी.

साल का आख़िरी ग्रैंड स्लैम यूएस ओपन अगस्त-सितंबर में खेला जाएगा. एक बार फिर टेनिस की दुनिया के दो धुरंधरों स्पेन के रफ़ाएल नडाल और स्विट्ज़रलैंड के रोजर फ़ेडरर के मुक़ाबलों पर टेनिस प्रेमियों की नज़र होगी.

वर्ष 2010 में ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतकर साल की अच्छी शुरुआत करने के बाद रोजर फ़ेडरर कोई भी ग्रैंड स्लैम नहीं जीत पाए.

जबकि एक बार फिर शानदार फ़ॉर्म में चल रहे रफ़ाएल नडाल ने फ़्रेंच ओपन, विंबलडन और यूएस ओपन में अपनी जीत का झंडा बुलंद किया था.

इस बार ये देखने वाली बात होगी कि नडाल और फ़ेडरर में कौन बाज़ी मारता है या फिर कोई तीसरा खिलाड़ी टेनिस की दुनिया में अपना जलवा बिखेरता है.

भारत की बात करें तो एक बार फिर सानिया मिर्ज़ा, लिएंडर पेस, महेश भूपति और सोमदेव देववर्मन के प्रदर्शन पर ही नज़र होगी. हालाँकि डबल्स मुक़ाबलों में रोहन बोपन्ना भी अच्छा कर रहे हैं.

ग्रैंड स्लैम प्रतियोगिता के अलावा हर साल की तरह इस साल भी कई एटीपी और डब्लूटीए प्रतियोगिताओं का आयोजन होना है. इसी के तहत जनवरी में चेन्नई ओपन का भी आयोजन होना है.

डेविस कप के मुक़ाबले भी होंगे, जिसका फ़ाइनल 28 नवंबर को खेला जाएगा. फ़ेडरेशन कप भी फ़रवरी से शुरू होगा और फ़ाइनल मैच नवंबर में खेला जाएगा.

फ़ॉर्मूला वन

वर्ष 2011 में फ़ॉर्मूला वन रेसिंग की शुरुआत बहरीन ग्रां प्री से होगी, जो 11 से 13 मार्च तक आयोजित होगी.

साल की 20 फ़ॉर्मूला वन रेस में एक रेस भारत को भी मिला है. अगर सब कुछ ठीक रहा तो वर्ष 2011 में भारत में फ़ॉर्मूला वन रेस की शुरुआत होगी.

पिछले कई वर्षों से फ़ॉर्मूला वन के कर्ता-धर्ता कह रहे थे कि जल्द ही भारत को रेस कराने का मौक़ा मिलेगा.

तय कार्यक्रम के मुताबिक़ वर्ष 2011 के अक्तूबर में ये रेस आयोजित की जाएगी. हालाँकि जुलाई में अधिकारी एक बार फिर हालात की समीक्षा करेंगे और फिर आख़िरी फ़ैसला होगा.

हालाँकि जेपी रेस सर्किट के अधिकारियों का कहना है कि मई में सब चीज़ें तैयार हो जाएँगी.

तय कार्यक्रम के मुताबिक़ 28-30 अक्तूबर को ग्रेटर नोएडा के जेपी इंटरनेशनल रेस सर्किट पर साल की 18वाँ फ़ॉर्मूला वन रेस आयोजित होने वाली है.

सब कुछ ठीक रहा तो भारत को पहली बार अपने यहाँ फ़ॉर्मूला वन रेस आयोजित कराने का अवसर मिलेगा. साथ ही फ़ोर्स इंडिया टीम को भी अपना जलवा दिखाने का मौक़ा मिलेगा.

अन्य

अन्य अहम खेल मुक़ाबलों में वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप दक्षिण कोरिया में खेली जाएगी. ये चैम्पियनशिप 27 अगस्त से चार सितंबर तक होगी.

वर्ष 2011 में रग्बी यूनियन वर्ल्ड कप न्यूज़ीलैंड में खेला जाएगा. ये प्रतियोगिता नौ सितंबर से 23 अक्तूबर तक होगी.

बैडमिंटन की दुनिया में भी कई प्रतिष्ठित प्रतियोगिताएँ होंगी और भारतीय बैडमिंटन प्रेमियों की नज़रें एक बार फिर साइना नेहवाल पर होंगी.

18 से 23 जनवरी तक मलेशिया ओपन बैडमिंटन सुपर सिरीज़ प्रतियोगिता का आयोजन होगा. कोरिया सुपर सिरीज़ 25 से 30 जनवरी तक खेली जाएगी.

आठ से 13 मार्च तक ऑल इंग्लैंड प्रीमियर सुपर सिरीज़ का आयोजन होना है. कई सुपर सिरीज़ मुक़ाबलों के साथ-साथ साल के अंत में 13 से 18 दिसंबर तक इंडिया ग्रां प्री का आयोजन भारत में होगा.

21 से 25 दिसंबर तक इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज का भी आयोजन भारत में ही होना है.

संबंधित समाचार