केपटाउन फ़तह करने की आस

ज़हीर ख़ान, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़

भारत और दक्षिण अफ़्रीका के बीच टेस्ट सिरीज़ का आख़िरी टेस्ट रविवार से केपटाउन में शुरू हो रहा है.

टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष पर मौजूद भारतीय क्रिकेट टीम ये टेस्ट सिरीज़ जीतकर दक्षिण अफ़्रीका में अपनी पहली टेस्ट सिरीज़ जीत हासिल करनी चाहती है, तो दक्षिण अफ़्रीका की टीम अपनी ज़मीन पर जीत का सिलसिला जारी रखना चाहती है.

पहला टेस्ट भारत बुरी तरह हार गया था लेकिन दूसरे टेस्ट में उसने दक्षिण अफ़्रीका को मात देकर सिरीज़ काफ़ी रोमांचक बना दिया है.

दोनों टीमों के कप्तान मानते हैं कि मुक़ाबला तगड़ा है क्योंकि दोनों ही टीमें संतुलित हैं. भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दोनों ही टीमों ने अच्छा प्रदर्शन किया है.

उन्होंने कहा, "दोनों ही टीमें संतुलित हैं. पहले टेस्ट में दक्षिण अफ़्रीका ने अच्छा खेल दिखाया तो डरबन में हमने अच्छी वापसी की. अब सारा ध्यान निर्णायक टेस्ट पर है. अब हम उन छोटी-छोटी चीज़ों पर ध्यान दे रहे हैं, जो काफ़ी अहम हैं. इनमें अच्छी रणनीति और उस पर अमल करना शामिल है."

वर्ष 2006-07 में भी भारतीय टीम सिरीज़ में 1-1 से बराबर थी और निर्णायक टेस्ट केपटाउन में हुआ था. लेकिन उस समय भारतीय टीम पाँच विकेट से टेस्ट हार गई और सिरीज़ भी.

धोनी ने कहा कि दक्षिण अफ़्रीका में सिरीज़ जीतना बड़ी बात है लेकिन टीम ऐसा करने में सक्षम है. उन्होंने कहा कि निर्णायक टेस्ट में दबाव मेज़बान टीम पर है, क्योंकि भारतीय टीम सिरीज़ में पिछड़ रही थी और उसके बाद उसने वापसी की है.

ज़िम्मेदारी

दक्षिण अफ़्रीका के भी कप्तान ग्रैम स्मिथ का यही मानना है. उन्होंने कहा कि डरबन में टीम थोड़ा पीछे रह गई और टीम को छोटी-छोटी चीज़ों पर ध्यान देना होगा.

ग्रैम स्मिथ ने कहा कि डरबन में 131 और 215 रनों पर सिमट जाने के बाद बल्लेबाज़ों पर बड़ी ज़िम्मेदारी है.

उन्होंने कहा, "हमने डरबन में ख़राब बल्लेबाज़ी की. इस बारे में हमने ईमानदारी से अपना आकलन किया है. हमारी बल्लेबाज़ी अच्छी है लेकिन डरबन में हमसे चूक हुई."

उम्मीद है कि केपटाउन टेस्ट में दक्षिण अफ़्रीका वही टीम उतारेगा, जो डरबन टेस्ट खेली थी. दूसरी ओर भारतीय सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर के टीम में वापस आने की उम्मीद है.

चोट के कारण गंभीर डरबन टेस्ट में नहीं खेल पाए थे. उनकी जगह टीम में शामिल किए गए मुरली विजय दो पारियों में 19 और नौ रन ही बना पाए थे. इसिलए गंभीर के टीम में आने के साथ उनका पत्ता कटना तय है.

दक्षिण अफ़्रीका की टीम (संभावित)

ग्रैम स्मिथ (कप्तान), अल्वीरो पीटरसन, हाशिम अमला, ज़ाक कैलिस, एबी डी वेलियर्स, ऐशवेल प्रिंस, मार्क बाउचर, डेल स्टेन, मार्ने मॉर्केल, पॉल हैरिस और लोनवाबो सोत्सोबे.

भारतीय टीम (संभावित)

महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), वीरेंदर सहवाग, गौतम गंभीर, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण, चेतेश्वर पुजारा, हरभजन सिंह, ज़हीर ख़ान, ईशांत शर्मा और एस श्रीसंत.

संबंधित समाचार