ऐशेज़:इंग्लैंड का सीरीज़ पर कब्ज़ा

ऐशेज़ की जीत की ख़ुशियाँ मनाते इंग्लैंड के खिलाड़ी
Image caption इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने ऐशेज़ बरक़रार रखने की ख़ुशियाँ मनाईं (फ़ाइल चित्र)

इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को एक पारी और 83 रनों से हराकर 3-1 से ऐशेज सिरीज़ पर ऐतिहासिक जीत हासिल कर ली है.

ऐशेज़ के पांचवे और आखिरी टेस्ट में इंग्लैंड ने सिरीज़ जीतकर 24 साल में पहली बार आस्ट्रेलिया को उसकी ही ज़मीन पर हराया है. ज़ाहिर है इंग्लैंड में जश्न का माहौल पसरा है.

टेस्ट के आखिरी दिन ऑस्ट्रेलिया ने अपनी शुरुआत कई निराशाओं के साथ की. ऑस्ट्रेलिया सात विकेट खो कर 217 रन बना चुका था और जीत के लिए उसे 151 रनों की दरकार थी.

ऐसे में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी पीटर सिडल ग्रेम स्वान की गेंद पर 43 रन बनाकर आउट हो गए और स्टीव स्मिथ के 54 रन (नाबाद) भी ऑस्ट्रेलिया को सहारा न दे सके.

पैवेलियन लौटे

इंग्लैंड के गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन ने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बेनहिलफेनहॉस को और इंग्लैंड के क्रिस ट्रेमलैट ने ऑस्ट्रेलिया के माइकल बीयर को 281 रनों के स्कोर पर पैवेलियन का रास्ता दिखा दिया.

खेल विशेषज्ञों का मानना है कि सिडनी के एशेज़ टेस्ट में 1954-55 के बाद ये इंग्लैड के गेंदबाज़ों का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है.

इस जीत से बेहद खुश इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन ने कहा, ''ये हमारे लिए एक बेहतरीन टूर रहा. पिछले हफ़्ते हमने ऐशेज़ खिताब जीता और इस हफ्ते सिरीज़ अपने नाम कर ली. ''

ऐतिहासिक जीत

उन्होंने कहा कि सभी गेंदबाज़ों के अच्छे प्रदर्शन ने इंग्लैड की जीत को सिलसिलेवार बनाया साथ ही उनकी फील्डिंग भी बेहतरीन रही.

उन्होंने कहा, ''हम लंबे समय से अपनी फील्डिंग पर काम कर रहे थे. इस सिरीज़ में हमने जितने बेहतरीन कैच लिए हैं वो शायद ही किसी दूसरी सिरीज़ में लिए हों. ''

टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह रहे इंग्लैंड के पॉल कॉलिंगवुड ने कहा, ''यह वाकई सभी दिनों में सर्वश्रेष्ठ है और एक बेहद खास दिन है. टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहते समय मैं इससे बेहतर तोहफ़ा नहीं पा सकता था. इस दिन के इंतज़ार में कई खिलाड़ी अपना जीवन बिता देते हैं.''

1988-89 से यह पहली बार है जब ऑस्ट्रेलिया ने अपनी ही ज़मीन पर लगातार तीन टेस्ट मैच हारा हो.

संबंधित समाचार