टीएस दरबारी को मिली ज़मानत

दिल्ली राष्ट्रमंडल
Image caption दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में भ्रष्टाचार के कई मामले सामने आए हैं

दिल्ली हाई कोर्ट ने राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति में अधिकारी रहे टीएस दरबारी को ज़मानत दे दी है.

दरबारी को आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाडी का क़रीबी माना जाता है.

टीएस दरबारी को पिछले साल 15 नवंबर को क्वीन बैटर रिले घोटाले की जाँच के क्रम में गिरफ़्तार किया गया था.

दरबारी पर क्वींस बैटन रिले के दौरान वित्तीय अनियमितता का आरोप है. टीएस दरबारी के साथ-साथ आयोजन समिति के पूर्व अधिकारी एम जयचंद्रन को भी अदालत ने ज़मानत दे दी है.

आरोप

आरोप ये है कि लंदन में क्वींस बैटन रिले के दौरान एम फ़िल्म्स और एम कार को जो अनुबंध दिए गए थे, उससे सरकार को राजस्व का नुक़सान हुआ.

लेकिन केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) उनके ख़िलाफ़ चार्जशीट दाखिल नहीं कर पाई. अदालत ने इसी आधार पर दरबारी को ज़मानत देने का फ़ैसला किया.

हाई कोर्ट ने अपने फ़ैसले में यह भी कहा है कि सीबीआई दरबारी के ख़िलाफ़ कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर पाई.

इस फ़ैसले के बाद टीएस दरबारी के वकील तनवीर अहमद ने कहा कि उनके मुवक्किल जाँच में सहयोग के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि टीएस दरबारी के ख़िलाफ़ कोई मामला नहीं.

संबंधित समाचार