भारत ने मैच जीता, बांग्लादेश ने दिल

  • 19 फरवरी 2011
भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया और 87 रनों से मैच जीत लिया

विश्व कप के पहले मैच में भारत ने बांग्लादेश को 87 रनों से हराकर 2007 के विश्व कप में मिली हार का बदला ले लिया है.

भारत के 370 रनों के पहाड़ जैसे स्कोर का अच्छा जवाब देते हुए बांग्लादेश ने नौ विकेट के नुक़सान पर 283 रन बनाए.

भारत की पारी का आकर्षण जहाँ वीरेंदर सहवाग के 175 रन और विराट कोहली का शतक रहे तो वहीं बांग्लादेश की ओर से तमीम इक़बाल और कप्तान शाकिब अल हसन ने अर्द्धशतक जड़े.

भारतीय गेंदबाज़ कोई ख़ास प्रभावित नहीं कर सके और श्रीसंत तो सबसे ज़्यादा पिटे जिसकी वजह से कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उनसे सिर्फ़ पाँच ही ओवर गेंदबाज़ी कराई. उसमें भी श्रीसंत ने 53 रन दे दिए.

बांग्लादेश की शुरुआत तेज़ हुई और उन्होंने सिर्फ़ पाँच ओवरों में 51 रन बना लिए थे. मगर फिर 56 रनों के स्कोर पर इमरुल केयस मुनाफ़ पटेल की गेंद पर बोल्ड हो गए. उन्होंने 29 गेंदों में सात चौकों की मदद से 34 रन जोड़े थे.

अच्छी पारी

पहला विकेट गिरने के बाद तमीम इक़बाल और जुनैद सिद्दीक़ी ने टीम का स्कोर 100 रनों के पार पहुँचाया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption तमीम इक़बाल और इमरुल केयस ने टीम को अच्छी शुरुआत दी थी

उसके बाद सिद्दीक़ी हरभजन सिंह की एक गेंद की लाइन चूक गए और धोनी ने उन्हें स्टम्प कर दिया. उस समय सिद्दीक़ी ने 37 रन बनाए थे और टीम का स्कोर 129 था.

दूसरा विकेट गिरने के बाद आए कप्तान शाकिब अल हसन ने तमीम इक़बाल का अच्छा साथ दिया और 188 रनों के स्कोर पर तमीम के रूप में तीसरा विकेट गिरा. तमीम ने टिककर खेलते हुए अर्द्धशतक पूरा किया और 70 रन बनाकर मुनाफ़ पटेल की गेंद पर युवराज सिंह के हाथों कैच आउट हुए.

जबकि कप्तान शाकिब अल हसन ने 50 गेंदों पर 55 रन बनाए. रन गति बढ़ाने की कोशिश में वह यूसुफ़ पठान की गेंद पर हरभजन सिंह को कैच थमा बैठे.

उसके बाद बांग्लादेश के बल्लेबाज़ों ने तेज़ी से रन बनाने की कोशिश तो की मगर उस कोशिश में वे जल्दी-जल्दी आउट होते गए और बड़ा स्कोर नहीं कर सके.

मुशफ़िक़ुर रहमान ने 25, रक़ीबुल हसन ने 29, नईम इस्लाम ने दो, महमूदुल्ला ने छह, अब्दुल रज़्ज़ाक़ ने एक रन बनाए.

भारत की ओर से मुनाफ़ पटेल ने चार और ज़हीर ख़ान ने दो विकेट लिए.

भारतीय पारी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सहवाग की पारी भारत की ओर से मुख्य आकर्षण रही

इससे पहले भारत ने बांग्लादेश की ज़बरदस्त धुनाई करते हुए चार विकेट के नुक़सान पर 370 रनों का पहाड़ खड़ा किया था.

पारी का मुख्य आकर्षण वीरेंदर सहवाग की पारी रही जिन्होंने सिर्फ़ 140 गेंदों में 14 चौकों और पाँच छक्कों की मदद से बेहतरीन 175 रन बनाए. वहीं कोहली 100 रन बनाकर नॉट आउट रहे.

सहवाग और कोहली ने मिलकर दो सौ रनों से ज़्यादा की साझेदारी की. एक बार तो ऐसा भी लग रहा था कि सहवाग दोहरा शतक तक मार सकते हैं मगर तभी कप्तान शाकिब अल हसन की एक गेंद उनके बल्ले का नीचे का किनारा लेकर विकेट में चली गई.

इस तरह 28 वर्षों पहले बनाए गए कपिल देव के स्कोर की बराबरी करते हुए सहवाग आउट हुए. उन्होंने इस विश्व कप की पहली ही गेंद पर चौका जड़ा, छक्का लगाकर अर्द्धशतक पूरा किया और फिर विश्व कप का पहला शतक भी लगाया.

दूसरी ओर विराट कोहली ने भी तेज़ी से रन बनाए और भारतीय पारी के अंतिम ओवर में 83 गेंदों में 100 रन पूरे कर लिए. वहीं यूसुफ़ पठान अंतिम गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए. उन्होंने आठ रन बनाए.

सचिन रन आउट

इमेज कॉपीरइट agency
Image caption विराट कोहली ने टिककर खेलते हुए नाबाद शतक जड़ा

भारत का पहला विकेट सचिन तेंदुलकर के रूप में गिरा. वह 28 रनों के निजी स्कोर पर आउट हुए जबकि टीम का स्कोर 11वें ओवर में 69 रन था.

सचिन ने वाइड मिड ऑन की तरफ़ शॉट खेला, बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन ने लपककर गेंद को रोका. सचिन तब तक तेज़ी से दौड़ चुके थे मगर सहवाग की नज़रें गेंद पर थीं और उन्होंने क्रीज़ नहीं छोड़ी.

दोनों बल्लेबाज़ एक ही तरफ़ थे और गेंद विकेटकीपर के हाथों में जिन्होंने गिल्लियाँ बिखेर दीं. इस तरह सचिन तेंदुलकर पहले मैच में रन आउट हो गए.

सचिन ने अब तक 445 वनडे खेले हैं और उनमें वह 33वीं बार रन आउट हुए.

गंभीर बोल्ड

बांग्लादेश के विरुद्ध भारत को दूसरा झटका गौतम गंभीर के रूप में लगा जबकि वह गेंद को पूरी तरह नहीं समझ सके और बोल्ड हो गए.

गंभीर और वीरेंदर सहवाग मिलकर भारतीय पारी को आगे बढ़ा रहे थे और टीम का स्कोर डेढ़ सौ के पार हो चुका था कि उसी समय महमूदुल्ला की नीची रही एक गेंद को गंभीर समझ नहीं सके और उनकी गिल्लियाँ उड़ गईं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption तेंदुलकर के रन आउट होते ही बांग्लादेश के कैंप में ख़ुशी फैल गई

उस समय गंभीर 39 रनों के निजी स्कोर पर थे. पहला विकेट गिरने के बाद आए गौतम गंभीर ने सँभलकर बल्लेबाज़ी की और सहवाग के साथ मिलकर 48 गेंदों में 50 रनों की साझेदारी की.

भारत का दूसरा विकेट 152 के स्कोर पर गिरा था जिसके बाद सहवाग और कोहली ने मिलकर तीसरे विकेट के लिए 203 रन जोड़े.

भारत ने सहवाग और कोहली की सधी हुई पारी को देखते हुए 35वें ओवर में बैटिंग पावर प्ले लिया और पहले ओवर में ही 18 रन बना लिए. दोनों ने मिलकर पाँच ओवरों में 48 रन बनाए.

सहवाग शुरू से तेज़ी से खेलते रहे और पहले उन्होंने 45 गेंदों में अर्द्धशतक पूरा किया फिर 94 गेंदों में शतक भी जड़ दिया.

संबंधित समाचार