निराश हैं पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमी

लाहौर में बस पर हमला
Image caption लाहौर में श्रीलंकाई टीम की बस पर हुए हमले के बाद से पाकिस्तान में टीमें नहीं जा रही हैं

पाकिस्तान के लाहौर शहर में श्रीलंका की क्रिकेट टीम पर हुए हमले की टीस पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमियों को इस विश्व कप के दौरान ख़ास तौर पर महसूस हो रही है.

उसी हमले के बाद से अंतरराष्ट्रीय टीमों ने पाकिस्तान में क्रिकेट खेलने जाने से इनकार कर दिया और उसी की वजह से इस विश्व कप की संयुक्त मेज़बानी पाकिस्तान के हाथों से चली गई.

अब पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमी मायूस हैं क्योंकि अपनी टीम के जो मैच वे अपने यहाँ देख सकते थे उसके लिए उन्हें सिर्फ़ टेलीविज़न सेट का ही सहारा रहेगा.

इस विश्व कप में पाकिस्तान का पहला मैच हंबनटोटा में कीनिया के विरुद्ध बुधवार को है और ये मैच दरअसल पाकिस्तान में आयोजित होना था.

तो जो माहौल पाकिस्तान में होना चाहिए था, वहाँ के दर्शकों में जो ख़ुशियाँ होनी चाहिए थीं वो सब नदारद है.

पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमियों के लिए वो फ़ैसला न सिर्फ़ झटका था बल्कि आत्म सम्मान को ठेस की तरह भी था.

प्रदर्शन से उम्मीद

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सलमान बट सहित तीन पाकिस्तानी क्रिकेटरों पर लंबे समय के लिए प्रतिबंध लगा है

बात इससे आगे बढ़ी तो तीन पाकिस्तानी क्रिकेटर मैच में फ़िक्सिंग के मामले में पकड़े गए.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड या पीसीबी ने शुरू में तो ये बात ही मानने से इनकार कर दिया था कि इंग्लैंड के विरुद्ध हुए टेस्ट मैच में उनके खिलाड़ियों ने कोई फ़िक्सिंग की थी.

पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की ओर से मामले की सुनवाई हुई, खिलाड़ी दोषी पाए गए और उनके विरुद्ध प्रतिबंध भी घोषित हो गए.

उस प्रकरण की काली छाया से निकलकर पाकिस्तानी क्रिकेटरों को इस टूर्नामेंट में हिस्सा लेना पड़ रहा है.

अब शायद पीसीबी ने ये बात स्वीकार कर ली है और खिलाड़ियों पर लगे इन प्रतिबंधों का समर्थन किया है.

पीसीबी के प्रवक्ता नदीम सरवर की मानें तो पाकिस्तानी क्रिकेट समर्थक भी इसे एक अच्छे फ़ैसले की ही तरह देखते हैं.

मगर अधिकतर पाकिस्तानी मानते हैं कि उस प्रकरण ने पाकिस्तानी टीम के मनोबल पर असर डाला होगा.

वैसे श्रीलंका में मौजूद पाकिस्तानी टीम से जब इस बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि अब खिलाड़ी उन सब बातों से आगे बढ़कर सिर्फ़ टूर्नामेंट पर ध्यान दे रहे हैं.

इतना ही नहीं खिलाड़ी और पाकिस्तान के क्रिकेट प्रेमी भी चाहते हैं कि उनकी टीम इस विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन करके खेल प्रेमियों के बीच एक नया उत्साह जगा दे.

संबंधित समाचार