इंग्लैंड टीम पर जुर्माना

एंड्रयू स्ट्रॉस और टिम ब्रेसनेन इमेज कॉपीरइट AP
Image caption टिम ब्रेसनेन को फ़टकार ही पड़ी जबकि धीमे ओवर रेट के चलते पूरी टीम पर जुर्माना हुआ है

भारत के विरुद्ध बंगलौर में टाई हुए मैच में इंग्लैंड पर धीमे ओवर रेट के चलते जुर्माना किया गया है जबकि टिम ब्रेसनेन को भी फटकार पड़ी है.

ब्रेसनेन को 49वें ओवर की अंतिम गेंद पर पीयूष चावला ने बोल्ड कर दिया, जिसके बाद ब्रेसनेन ने विकेट पर बल्ला मारा था.

टाई हुए बंगलौर वनडे की रिपोर्ट

क्रिकेट के किसी भी उपकरण या मैदान में लगे उपकरण वग़ैरह के साथ छेड़-छोड़ का मामला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की आचार संहिता के सेक्शन 2.1.2 के तहत पहले स्तर का मामला बनता है.

ब्रेसनेन ने फ़ैसले को कोई चुनौती नहीं दी इसलिए सुनवाई की ज़रूरत भी नहीं पड़ी. ये फ़ैसला मैच रेफ़री रोशन महानामा की ओर से सुनाया गया.

महानामा ने कहा, "फ़ैसला सुनाते समय मैंने ये ध्यान में रखा कि ब्रेसनेन ने ग़लती ख़ुद ही मान ली और उसके लिए माफ़ी भी माँगी. साथ ही ये उनकी पहली ग़लती थी."

टीम पर जुर्माना

मगर साथ ही महानामा ने कहा कि क्रिकेट जैसे खेल में क्रिकेटरों की ओर से इस तरह की ग़लती की कोई गुंजाइश नहीं है और उन्हें खेल की सच्ची भावना के अनुरूप ही खेलना होगा क्योंकि ये क्रिकेटर लाखों युवा क्रिकेटरों के रोल मॉडल हैं.

आईसीसी के नियमों के तहत इस तरह के मामले में फटकार के अलावा या उसके साथ खिलाड़ी की 50 प्रतिशत मैच फ़ीस काट लेने का भी प्रावधान है.

इसके अलावा महानामा ने पूरी इंग्लैंड टीम पर धीमे ओवर रेट के चलते जुर्माना किया है. इंग्लैंड टीम ने तय समय में एक ओवर कम फेंका था.

आईसीसी के नियमों के तहत टीम के खिलाड़ियों पर हर ओवर के हिसाब से 10 प्रतिशत का जुर्माना होता है जबकि कप्तान पर उसका दोगुना.

इस हिसाब से टीम के खिलाड़ियों का 10 फ़ीसदी और कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस की मैच फ़ीस का बीस प्रतिशत काटा जाएगा.

धीमे ओवर रेट का ये दूसरा मामला है. इससे पहले पाकिस्तान पर भी श्रीलंका के विरुद्ध मैच में धीमे ओवर रेट के चलते ये जुर्माना किया गया था.

संबंधित समाचार