ब्रायन से निपटने को तैयार भारत

  • 6 मार्च 2011
भारतीय टीम इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आयरलैंड के ख़िलाफ़ मैच से पहले भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने केविन ओ ब्रायन की सराहना की है.

लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई है कि केविन रविवार के मैच में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ शतकीय पारी जैसा प्रदर्शन नहीं दोहरा पाएँगे.

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मैच में आयरलैंड के केविन ओ ब्रायन ने विश्व कप का सबसे तेज़ शतक लगाते हुए अपनी टीम को शानदार जीत दिलाई थी.

उन्होंने सिर्फ़ 50 गेंदों पर शतक लगाया था और 63 गेंदों पर 113 रन बनाकर आउट हुए थे.

रविवार को बंगलौर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में भारत और आयरलैंड के बीच मैच खेला जाएगा.

मैच से पहले एक संवाददाता सम्मेलन में धोनी ने कहा, "जहाँ तक रणनीति का सवाल है, हर दिन अलग होता है. आपको खिलाड़ी के खेल को देखते हुए रणनीति बनानी होती है. इंग्लैंड के ख़िलाफ़ केविन ओ ब्रायन की पारी अविश्वसनीय थी."

बल्लेबाज़ी

धोनी ने कहा कि भारत की मज़बूती उसकी बल्लेबाज़ी है और आयरलैंड के ख़िलाफ़ मैच में भी वो अपनी बल्लेबाज़ी के बलबूते उसका सामने करेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption केविन ओ ब्रायन ने विश्व कप का सबसे तेज़ शतक लगाया था

भारत ने विश्व कप में अभी तक दो मैच खेले हैं और इन दोनों मैचों में भारत की बल्लेबाज़ी चमकी है. दोनों ही मैचों में भारत ने 300 से ज़्यादा रन बनाए हैं.

बांग्लादेश के ख़िलाफ़ भारत मैच जीत गया, लेकिन इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उसका मैच टाई हो गया था. भारतीय कप्तान ने स्पष्ट किया कि उनकी टीम आयरलैंड की टीम को हलके में नहीं ले रही है, ख़ासकर इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उसके प्रदर्शन के बाद.

धोनी ने कहा, "विश्व कप में कोई भी टीम कमज़ोर नहीं है. वर्ष 2007 के विश्व कप में हम बांग्लादेश से हार गए थे और हम वो ग़लती दोबारा नहीं करना चाहते."

भारतीय कप्तान ने कहा कि अभी उन्होंने यह फ़ैसला नहीं किया है कि वे इस मैच में तीन तेज़ गेंदबाज़ों और एक स्पिनर के साथ उतरेंगे या नहीं. दोनों मैचों में जहाँ भारतीय बल्लेबाज़ी चमकी है, वहीं गेंदबाज़ी और फ़ील्डिंग को लेकर भारतीय टीम की आलोचना भी हुई है.

दूसरी ओर इंग्लैंड के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त जीत के उत्साहित आयरलैंड की टीम बल्लेबाज़ी में एक बार फिर केविन ओ ब्रायन और जॉन मूनी पर निर्भर करेगी. दोनों ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया था.

संबंधित समाचार