कॉलम लिखने पर पाबंदी लगी

शाकिब अल हसन इमेज कॉपीरइट Focus Bangla
Image caption शाकिब ने अपने कॉलम में पूर्व खिलाड़ियों की आलोचना की थी

विश्व कप में हिस्सा ले रहे बांग्लादेशी क्रिकेटरों को टूर्नामेंट के दौरान अख़बारों में स्तंभ लिखने से रोक दिया गया है.

टीम के कप्तान शाकिब अल हसन के पिछले दिनों एक अख़बार में आए स्तंभ को लेकर उठे विवाद के बाद बांग्लादेशी क्रिकेट बोर्ड ने ये फ़ैसला किया.

वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध बुरी तरह हार मिलने के बाद शाकिब ने एक बंगाली अख़बार में उन पूर्व खिलाड़ियों की आलोचना की थी जिन्होंने टीम के प्रदर्शन पर उँगली उठाई थी.

उस पर शाकिब ने कहा था कि पूर्व खिलाड़ियों को पहले अपने मामूली रिकॉर्ड्स देखने चाहिए उसके बाद मौजूदा टीम की बुराई करनी चाहिए.

वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध पूरी टीम सिर्फ़ 58 रनों पर ही सिमट गई थी और उसके बाद वेस्टइंडीज़ ने मात्र एक विकेट के नुक़सान पर जीत हासिल कर ली थी.

ये इस विश्व कप का सबसे कम स्कोर था. इसके बाद पूर्व खिलाड़ियों ने कहा था कि वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध टीम का प्रदर्शन देखकर लगा ही नहीं कि उनकी कोई रणनीति थी.

टिप्पणियाँ

इसके बाद बांग्लादेशी क्रिकेट प्रेमी इतने नाराज़ थे कि उन्होंने वेस्टइंडीज़ के खिलाड़ियों को ले जा रही बस पर ये समझते हुए पथराव कर दिया था कि वह बांग्लादेश की टीम बस है.

बांग्ला अख़बार प्रोथोम आलो में शाकिब ने पूर्व खिलाड़ियों की आलोचना पर टिप्पणी करते हुए लिखा, "वे लोग इस तरह की स्थितियों से काफ़ी बार गुज़रे हैं. आप रिकॉर्ड्स बुक से देख सकते हैं कि किसने क्या किया है."

इसके बाद कई पूर्व खिलाड़ियों ने शाकिब की भाषा पर अफ़सोस जताया था.

बांग्लादेश के पूर्व कप्तान रोक़िबुल हसन ने इस पर कहा, "आयरलैंड के विरुद्ध तो शाकिब की कप्तानी काफ़ी अच्छी थी. हमने उनकी योजना पर उनकी तारीफ़ भी की मगर वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध ऐसा लगा जैसे उनकी कोई योजना ही नहीं थी."

इस खींचतान के बाद बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के मुख्य कार्यकारी मंज़ूर अहमद ने कहा कि सभी खिलाड़ियों पर अब टूर्नामेंट के दौरान स्तंभ नहीं लिखने का ये नियम लागू होगा.

संबंधित समाचार