संघर्ष करके हारी कीनियाई टीम

ऑस्ट्रेलियाई टीम इमेज कॉपीरइट Getty Images

बंगलौर में हुए विश्व कप के एक मैच में मौ़जूदा चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया ने कीनिया को 60 रनों से हरा तो दिया, लेकिन कीनिया की टीम ने उन्हें काफ़ी परेशान किया. जीत का अंतर भी कम नहीं, लेकिन कीनिया के कुछ खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ों की अच्छी धुनाई की.

ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 50 ओवर में छह विकेट पर 324 रन बनाए थे. जवाब में कीनिया की टीम 50 ओवर में छह विकेट पर 264 रन ही बना पाई.

लेकिन कीनिया ने अच्छी बल्लेबाज़ी का प्रदर्शन किय. हालाँकि टीम की रन गति कम रही, लेकिन दुनिया के शीर्ष गेंदबाज़ों के सामने उनका संघर्ष देखने लायक़ था.

कॉलिन्स ओबुया, तन्मय मिश्रा और थॉमस ओडोयो ने ब्रेट ली, मिचेल जॉनसन, शॉन टेट और जेसन क्रेज़ा जैसे गेंदबाज़ों की नाक में दम कर दिया. कॉलिन्स ओबुया दुर्भाग्यशाली रहे और 98 रन बनाकर नाबाद रहे.

तन्मय मिश्रा ने 72 और ओडोयो ने तेज़ 35 रनों की पारी खेली. लेकिन ये खिलाड़ी अपनी टीम को जिता नहीं पाए.

बल्लेबाज़ी

इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया. इस मैच में शेन वॉटसन सस्ते में निपट गए. उन्होंने सिर्फ़ 21 रन ही बनाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ओबुया 98 रन बनाकर नाबाद रहे

कप्तान रिकी पोंटिंग एक बार फिर बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर पाए और 36 रन बनाकर आउट हो गए. लेकिन ब्रैड हैडिन ने अच्छी पारी खेली और अर्धशतक लगाया.

लेकिन ऑस्ट्रेलिया की ओर से सबसे अच्छी पारी खेली उप कप्तान माइकल क्लार्क ने, उन्होंने माइकल हसी के साथ अच्छी साझेदारी भी की.

पाँचवें विकेट के लिए दोनों ने 114 रनों की साझेदारी की. बॉलिंजर के घायल होने के बाद विश्व कप टीम में शामिल किए गए माइकल हसी ने अर्धशतक लगाया और 54 रन बनाकर आउट हुए.

माइकल क्लार्क दुर्भाग्यशाली रहे और 93 रन बनाकर आउट हो गए. उन्होंने 80 गेंदों का सामना किया और अपनी पारी में सात चौके और एक छक्का लगाया.

संबंधित समाचार