तनाव में हिंदी फ़िल्म का डोज़

  • 18 मार्च 2011
साकिब अल हसन इमेज कॉपीरइट Focus Bangla
Image caption साकिब मानते हैं कि दक्षिण अफ़्रीका मज़बूत टीम है

गुरुवार को चेन्नई में हुए इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ के मैच पर इन दोनों देशों के अलावा दो और देशों की नज़र थी. इनमें पहली टीम थी बांग्लादेश की और दूसरी भारत की.

अगर वेस्टइंडीज़ ने इंग्लैंड को हरा दिया होता तो दक्षिण अफ़्रीका के अलावा भारत, वेस्टइंडीज़ और बांग्लादेश की टीमें क्वार्टर फ़ाइनल के लिए क्वालीफ़ाई कर जाती.

ग्रुप बी से अभी तक सिर्फ़ एक ही टीम क्वार्टर फ़ाइनल के लिए क्वालीफ़ाई हुई है और वो टीम है दक्षिण अफ़्रीका की. अभी तक के जो समीकरण हैं, उनके हिसाब से बांग्लादेश के क्रिकेट प्रेमी इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ के मैच पर गहरी नज़र रखे हुए थे.

ज़ाहिर है बांग्लादेश की टीम का हर सदस्य भी इस मैच को देख रहा होगा. लेकिन बांग्लादेश के कप्तान साकिब अल हसन की बात मानें, तो वे उस समय एक हिंदी फ़िल्म देख रहे थे.

ढाका में एक संवाददाता सम्मेलन में साकिब ने बताया, "मैंने उस समय तक मैच देखा, जब क्रिस गेल बैटिंग कर रहे थे, उसके बाद मैं हिंदी फ़िल्म देखने लगा."

अब ये साकिब का कोई टोटका था या कुछ और- ये तो पता नहीं लेकिन इतना तो तय था कि इस अहम मैच पर बांग्लादेश के हर क्रिकेट प्रेमी की नज़र थी, जो टेलीविज़न सेट पर टकटकी लगाए मैच देख रहे थे.

समीकरण

अब बांग्लादेश की टीम उसी स्थिति में क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँच सकती है, जब वो दक्षिण अफ़्रीका को हरा दे या फिर उसे भारत और वेस्टइंडीज़ के मैच के नतीजे पर नज़र रखनी होगी. बांग्लादेश और दक्षिण अफ़्रीका के बीच शनिवार को मैच होना है.

साकिब ने कहा कि अगर वेस्टइंडीज़ ने इंग्लैंड को हरा दिया होता तो उनकी टीम क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँच जाती, लेकिन अब उनकी टीम को अपने दम पर क्वार्टर फ़ाइनल में जगह बनानी पड़ेगी.

बांग्लादेश ने अभी तक आयरलैंड, इंग्लैंड और नीदरलैंड्स को हराया है. जबकि भारत और वेस्टइंडीज़ ने उसे हराया है. बांग्लादेश के पाँच मैचों में छह अंक हैं.

साबिक ने स्वीकार किया कि दक्षिण अफ़्रीका की टीम काफ़ी मज़बूत है. उन्होंने कहा, "दक्षिण अफ़्रीका की टीम हर क्षेत्र में हमसे आगे हैं. लेकिन वनडे मैच में बहुत कुछ उस पर निर्भर करता है कि हम 50 ओवरों में क्या करते हैं."

उन्होंने कहा कि इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि टीम कितनी बड़ी है, हमारी टीम को हमारी ही ज़मीन पर हराना आसान नहीं होगा.

संबंधित समाचार