ज़िम्बाब्वे की शानदार विजय

  • 20 मार्च 2011
ज़िम्बाब्वे टीम इमेज कॉपीरइट Reuters (audio)

विश्व कप में ग्रुप ए के आख़िरी लीग मैच में ज़िम्बाब्वे ने कीनिया को 161 रनों के बड़े अंतर से हरा दिया है. कोलकाता में हुए इस मैच में ज़िम्बाब्वे ने पहले खेलते हुए 50 ओवर में छह विकेट पर 308 रन बनाए थे.

जवाब में कीनिया की टीम सिर्फ़ 147 रन बनाकर आउट हो गई. टीम पूरे 50 ओवर भी नहीं खेल पाई और 36 ओवर में ही आउट हो गई.

ज़िम्बाब्वे के स्पिनरों ने शानदार गेंदबाज़ी की और कीनियाई बल्लेबाज़ी की कमर तोड़ दी. रे प्राइस, प्रॉस्पर उत्सेया, ग्रेग लैंब और ग्रैम क्रेमर नियमित अंतराल पर विकेट लेते रहे.

कीनिया की ओर से ओडियाम्बो ने सर्वाधिक 44 रन बनाए. जबकि राकेप पटेल ने 24 रनों का योगदान दिया.

शानदार बल्लेबाज़ी

इससे पहले ज़िम्बाब्वे के बल्लेबाज़ों ने कीनियाई गेंदबाज़ों की जम कर धुनाई की और टीम का स्कोर 300 के पार ले गए.

ज़िम्बाब्वे की ओर से तटेंडा टैबू ने 53, सिबान्दा ने 61 और क्रेग अर्वाइन ने 66 रनों की पारी खेली. टैबू और सिबान्दा ने ज़िम्बाब्वे की पारी की आधारशिला रखी और तीसरे विकेट के लिए 110 रनों की साझेदारी की.

इसके बाद क्रेग अर्वाइन ने कप्तान एल्टन चिगुम्बुरा के साथ पाँचवें विकेट के लिए 105 रन जोड़े और अपनी टीम को बड़े स्कोर तक ले गए.

ग्रेग लैंब और प्रॉस्पर उत्सेया ने भी अपने अंदाज़ में पारी की समाप्ति की और आख़िरी दो ओवरों में 32 रन जोड़े. कीनिया के 39 वर्षीय स्टीव टिकोलो ने इस मैच में कप्तानी की. ये उनका आख़िरी अंतरराष्ट्रीय मैच था.

इस मैच से पहले ही दोनों ही टीमें क्वार्टर फ़ाइनल की दौड़ से बाहर हो गई थी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार