'ये विश्व कप हमारे लिए सब कुछ है'

धोनी इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption धोनी ने बताया कि टॉस जीतने वाली टीम पहले बैटिंग करना चाहेगी

शनिवार को होने वाले फ़ाइनल मैच से एक दिन पहले दोनों ही कप्तानों महेंद्र सिंह धोनी और कुमार संगकारा ने विश्व कप जीतने की उम्मीद जताई है.

मुंबई में एक संवाददाता सम्मेलन में भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और श्रीलंका के कप्तान कुमार संगकारा काफ़ी शांत दिखे.

धोनी ने एक बार फिर दोहराया कि उनकी टीम सही मौक़े पर अपने प्रदर्शन की चोटी पर पहुँच रही है और वो ये टूर्नामेंट जीत के साथ ख़त्म करना चाहेंगे.

धोनी ने कहा, "एक अच्छी बात ये रही कि सेमी फ़ाइनल और फ़ाइनल के बीच बहुत बड़ा अंतराल नहीं था. कल हम यात्रा कर रहे थे और आज हमने प्रैक्टिस की. इससे हमें मदद मिलती है कि हम भविष्य की ओर ज़्यादा नहीं देखें."

धोनी से एक बार फिर तेज़ गेंदबाज़ों की उपयोगिता पर सवाल पूछा गया और ये भी कि क्या अश्विन को मैच में जगह मिल पाएगी, इस पर धोनी का कहना था, "ये एक पेचीदा सवाल है. अगर आप मुंबई की पिच को देखें तो यहाँ तेज़ गेंदबाज़ों की मदद के लिए उछाल और तेज़ी है. अगर आपके पास तीन तेज़ गेंदबाज़ होते हैं तो आपके पास फ़ेरबदल के विकल्प ज़्यादा होते हैं लेकिन अगर आपके पास तीन स्पिनर्स हैं, साथ में दो पार्ट टाईम मध्यम गति के गेंदबाज़, तो आप बहुत फ़ेरबदल नहीं कर सकते. अश्विन को जो भी मौके मिले हैं, उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है और हमे उन पर विश्वास है. हमने अभी नहीं सोचा है कि क्या हम तीन तेज़ गेंदबाज़ों के साथ मैच में उतरें, या फिर दो तेज़ गेंदबाज़ और एक स्पिनर के साथ."

धोनी ने कहा कि वक्त के साथ विकेट धीमा होगा और टॉस जीतने वाली टीम पहले बैटिंग करना चाहेगी.

सपना

उधर संगकारा ने कहा कि हालाँकि जानकार भारतीय दावे को मज़बूत मान रहे हैं, वो अपनी टीम को किसी भी मामले में निचली स्तर का नहीं मानते और उनकी टीम बढ़िया प्रदर्शन देने की कोशिश करेगी.

Image caption कुमार संगकारा ने कहा कि ये विश्व कप हमारे लिए सब कुछ है

संगकारा ने कहा, "ये विश्व कप हमारे लिए सब कुछ है. हम काफ़ी मुश्किलों से गुज़रे हैं. कई लोगों ने हमारे देश के लिए अपनी जान क़ुरबान की है. और इस नए भविष्य की ओर बढ़ते श्रीलंका में उम्मीद है कि हम विश्व कप ले जा पाएं."

संगकारा ने कहा कि वो ज़रूर चाहते थे कि वो अपने देश में खेलें. उन्होंने कहा कि उनकी टीम के लिए फ़ाइनल का दिन ख़ुद को काबू में रखने वाला होगा, न कि भावुक होने वाला. उन्होंने कहा कि उनकी टीम की ताक़त गेंदबाज़ी है और वो उसका भरपूर इस्तेमाल करेंगे.

मुरलीधरन को लगी चोट और उनके मैच खेलने की संभावनाओं पर संगकारा ने कुछ स्पष्ट नहीं कहा, लेकिन धोनी का मानना था कि मुरलीधरन फ़ाइनल मैच ज़रूर खेलेंगे.

इससे पहले आईसीसी प्रमुख शरद पवार ने लोगों को कम टिकटें दिए जाने की शिकायत पर कहा कि फ़ाइनल मैच में सिर्फ़ 200 वीआईपी टिकट दिए गए हैं.

उनका कहना था कि मुंबई जैसे शहर में ऐसा स्टेडियम होना चाहिए था जिसमें कम से कम एक लाख लोग बैठ सकें लेकिन यहाँ ज़मीन की कमी है. पवार ने कहा कि उन्होंने भी टिकटों के ब्लैक मार्केंटिंग की बातें अख़बारों में पढ़ी हैं, लेकिन इसमें मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन की भूमिका साफ़ है.

संबंधित समाचार