तिलकरत्ने ने कहा मैच-फ़िक्सिंग का सबूत देंगे

  • 4 मई 2011
इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption हसन तिलकरत्ने ने कहा वे सबूत भी पेश करेंगे

श्रीलंका के पूर्व कप्तान हसन तिलकरत्ने ने कहा है कि मैच-फ़िक्सिंग के अपने आरोपों के समर्थन में वे पूरा सबूत पेश करेंगे.

हसन तिलकरत्ने और एक और पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने पिछले हफ़्ते दावा किया था कि उनके देश में 1992 के बाद मैच फ़िक्सिंग एक आम बात रही है.

श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने दोनों पूर्व खिलाड़ियों को आरोपों के समर्थन में सबूत पेश करने को कहा है.

तिलकरत्ने ने कहा है कि वे सही समय आने पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के समक्ष सारे सबूत पेश करेंगे.

पूर्व कप्तान ने कहा कि मैच-फ़िक्सिंग के आरोपों को सामने लाने के बाद उन्हें जान से मारने की धमकियाँ मिल रही हैं.

मैच-फ़िक्सिंग के आरोप नए नहीं

तिलकरत्ने ने कहा, "जबसे मैंने आरोपों को सार्वजनिक किया है मुझे ऊलजलूल कॉल किए जा रहे हैं, जान से मारने की धमकियाँ दी जा रही हैं. लेकिन समय आने पर मैं उन सबके नाम उजागर करूँगा जो कि मैच-फ़िक्सिंग में शामिल रहे हैं."

जब उनसे ये पूछा गया कि वे आईसीसी की भ्रष्टाचाररोधी समिति के ज़रिए सारा खुलासा क्यों नहीं करते, तिलकरत्ने ने कहा, "मैं आने वाले दिनों में ऐसा करूँगा."

श्रीलंका के लिए 83 टेस्ट और 200 एक दिवसीय मैच खेलने वाले हसन तिलकरत्ने 2003-04 में टीम के कप्तान रहे थे.

उन्होंने टेस्ट मैचों में 11 शतकों के साथ 4,545 रन बनाए हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मैच-फ़िक्सिंग के आरोप कोई नई बात नहीं हैं. दक्षिण अफ़्रीका के हैंसी क्रोन्ये, भारत के मोहम्मद अज़हरुद्दीन और अजय जडेजा तथा पाकिस्तान के सलीम मलिक को विगत में मैच-फ़िक्सिंग का दोषी पाया जा चुका है. हालाँकि बाद में जडेजा और मलिक पर लगाए गए प्रतिबंध हटा लिए गए थे.

हाल के महीनों में पाकिस्तान के सलमान बट्ट, मोहम्मद आसिफ़ और मोहम्मद आमिर को भ्रष्टाचार का दोषी पाया जा चुका है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार